योगी आदित्यनाथ सरकार ने पत्रकारों के लिए चलाई स्पेशल मुहिम

योगी आदित्यनाथ सरकार ने पत्रकारों के लिए चलाई स्पेशल मुहिम

लखनऊ। कोविड के बढ़ते संक्रमण के दौर में उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने पत्रकारों के लिए स्पेशल मुहिम चलाई है। उत्तर प्रदेश सरकार का सूचना विभाग 31 मार्च को एक कैम्प का आयोजन कर रहा है।

28 मार्च को भी एक ऐसा ही कैम्प लखनऊ के मीडिया सेंटर में लगाया गया था। लेकिन किसी कारणवश सिर्फ 60 पत्रकारों ने ही उस दिन अपनी जाँच कराई थी। इस संख्या को बढ़ाने और अधिक से अधिक पत्रकारों की जाँच के लिए दूसरी बार यह कैंप लगाई गई।

कोरोना संक्रमण को रोकने का सबसे कारगर तरीका इसकी टेस्टिंग ही है। चूँकि हर हमेशा काम को लेकर बाहर रहने वाले पत्रकारों को इसके संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है, इसलिए ऐसे पत्रकार जो किसी कोविड पेशेंट के संपर्क में पिछले दिनों आए हों या वो किसी तरह का लक्षण महसूस कर रहे हों, तो वे मीडिया सेंटर में जाकर अपनी जाँच करवा सकते हैं। लखनऊ के मीडिया सेंटर में कोरोना जाँच का यह कैंप 11 बजे दिन के बाद शुरू होगा।

वोटिंग के लिए छुट्टी को लेकर सरकारी आदेश के बारे में अब तक सुना होगा। अब यही व्यवस्था कोरोना वैक्सीन को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार ने की है। प्रदेश सरकार के आदेश के अनुसार कोरोना वैक्सीन के लिए लोगों को छुट्टी दी जाएगी। यह छुट्टी सरकारी और प्राइवेट कर्मचारियों दोनों को मिलेगी।

कुछ दिन पहले उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बना था, जहाँ 20 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन का लाभ मिला। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस उपलब्धि पर संतोष जाहिर किया था। उन्होंने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिया कि सारी चीजें पारदर्शी तरीके से होनी चाहिए और पोर्टल पर प्रत्येक दिन के टीकाकरण के आँकड़ों को अपलोड किया जाए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया था कि नियमित मॉनीटरिंग करते हुए लक्षित आयु वर्ग के अधिक से अधिक लोगों को इसके लिए प्रेरित और प्रोत्साहित किया जाए। उन्होंने सुझाव दिया कि जिले में बने इंटीग्रेटेड कमांड और कंट्रोल सेंटरों का उपयोग भी टीकाकरण के लिए किया जाए।

कोरोना काल में उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा किए गए कार्यों की गूँज दुनिया भर में सुनाई दे रही है। अंतरराष्ट्रीय ‘Time’ मैगजीन में छपे एक लेख में इसकी चर्चा हुई। ‘Time’ मैगजीन में छपे लेख में कहा गया है कि कोरोना से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए क़दमों से पूरी दुनिया प्रभावित है और WHO ने भी इसकी प्रशंसा की है।

मजदूरों को स्वच्छ भोजन और पानी देने, कम्युनिटी किचेंस की व्यवस्था और लॉकडाउन में उनके बीच 6.75 करोड़ फ़ूड पैकेट्स बाँटने जैसे क़दमों की प्रशंसा की गई है। विभिन्न पेंशन योजनाओं के तहत 86.8 लाख लोगों को 2 महीने का एडवांस पेंशन दिया गया।

Share