जनता के वोट तय करेंगे नरेंद्र मेहता की वापसी?

जनता के वोट तय करेंगे नरेंद्र मेहता की वापसी?

शैलेंद्र पांडे/ मिरा भायंदर । सोशल मीडिया के ज़रिए मीरा भायंदर के पूर्व विधायक नरेंद्र मेहता ने सक्रिय राजनीति में वापसी करने के लिए एक नंबर जारी करके लोगो से उनकी राय माँगी है। हाल ही में घटे मीरा भायंदर की राजनीतिक घटनाक्रम ने एक बात तो साफ कर दी है भारतीय जनता पार्टी में अब वर्चस्व की लडाई को लेकर घमासान मचने वाला है।

मीरा भायंदर में एक वक्त था जब काँग्रेस और राष्ट्रवादी का दबदबा था। मुज़फ्फर हुसैन और गिल्बर्ट मेंडोंसा के नामों की चर्चा दूर दूर तक होती थी लेकिन निर्दलीय नगरसेवक चुनकर आनेवाले नरेंद्र मेहता ने अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को न सिर्फ उन्हीं के गढ़ में मात दी बल्कि मीरा भायंदर शहर में भारतीय जनता पार्टी की कमान संभालते हुए नगरपालिका में भी अपना वर्चस्व स्थापित किया।

नरेंद्र मेहता की बढ़ती लोकप्रियता ने उन्हें विधायक बनाया और देखते ही देखते शहर के एक शीर्ष नेतृत्व के रुप मे उनकी छबि कायम हुई यहाँ तक कि उस वक्त प्रदेश के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस का अक्सर मीरा भायंदर में आवागमन देखने को मिला। लेकिन सफलता के साथ ही साथ आरोपों और प्रत्यारोपों में नरेंद्र मेहता कुछ इस तरह घिरे की कुर्सी भी गई, पद भी गया और नरेंद्र मेहता को सक्रीय राजनीति से भी सन्यास लेना पड़ा।

नरेंद्र मेहता का चुनावी संघर्ष भी किसी एडवेंचर्स मूवी से कम नही है। एक के बाद एक मेहता अपने ही पार्टी के कार्यकर्ताओं के जाल में ऐसे उलझते चले गए जिससे वो आज भी पूरी तरह उभर नही पाए है। फिलहाल उन मुददों पर फिर कभी चर्चा करेंगे। सवाल यह है कि मेहता आखिर फिर से सक्रिय राजनीति में क्यूँ आना चाहते है।

जानकारों की माने तो मेहता कभी सक्रिय राजनीति से दूर हुए ही नही थे। रवि व्यास को जिला अध्यक्ष बनाये जाने के उपरांत जिस तरह की गतिविधियां इस शहर में हो रही है उससे ये साफ हो जाता है की पार्टी में सबकुछ ठीक नही है और इस लड़ाई में अब आलाकमान भी आ चुके है पार्टी कुछ भी कहे कि हम परिवार है ऐसे होता है वैसे होता है लेकिन अब देखनेवाली बात यह होगी कि रवि व्यास काँटों से भरे इस ताज को कैसे और जब तक संभालेंगे।

हमने भी अपने इर्द गिर्द लोगों से बात की और हमे एक मिला जुला उत्तर प्राप्त हुआ कुछ चाहते है कि नरेंद्र मेहता वापस आए और कुछ नही। जनता का रिस्पांस जो भी हो लेकिन एक बार नरेंद्र मेहता फिर से खुले आम राजनीती करते हुए नजर आएंगे।

Share