विश्व पर्यावरण दिवस पर स्वयंसेवकों ने किया हवन यज्ञ और वृक्षारोपण

विश्व पर्यावरण दिवस पर स्वयंसेवकों ने किया हवन यज्ञ और वृक्षारोपण

-स्वयंसेवकों ने अपने घरों में किया पूर्णा मुक्ति महायज्ञ

-वृक्षारोपण कर समाज को दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

फिरोजाबाद। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बैनर तले पर्यावरण गतिविधि ब्रज प्रांत के द्वारा 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर नगर में स्वयंसेवकों व अन्य लोगों ने प्रातःअपने-अपने घरों पर कोरोना मुक्ति महायज्ञ कर वातावरण को शुद्ध किया और वृक्षारोपण कर पर्यावरण के प्रति सजगता का संदेश दिया।

शनिवार को जलेसर रोड स्थित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यालय पर विभाग प्रचारक धर्मेन्द्र भारत के नेतृत्व में हवन यज्ञ किया गया तो वही पूरे जिले में सैकड़ों परिवारों में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। चंद्रनगर महानगर पर्यावरण प्रमुख प्रवीण अग्रवाल के नेतृत्व में संघ के स्वयंसेवकों ने पर्यावरण दिवस के अवसर पर अपने अपने निवास स्थान पर हवन यज्ञ कर वातावरण को शुद्ध किया और परमेश्वर से कोरोना मुक्ति हेतु प्रार्थना की। इसके अतिरिक्त स्वयंसेवकों द्वारा पर्यावरण की शुद्धि हेतु वृक्षारोपण कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। स्वयंसेवकों द्वारा पूरे विधि विधान से घरों में हवन यज्ञ किया गया और परिवार के साथ पूरी सेल्फी भी ली। इस कार्य में परिवार के बुजुर्ग,नौनिहाल एवं युवाओं ने पूरे जोर-शोर के साथ भाग लिया। पर्यावरण के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से स्वयंसेवकों ने सेल्फी सोशल साइट्स जैसे फेसबुक,ट्विटर,वॉट्सएप एवं इंस्टाग्राम आदि पर शेयर की।

प्रवीण अग्रवाल ने कहा कि 1972 में विकसित देशों को पर्यावरण की महत्वता समझ आई और उन्होंने विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में 5 जून निर्धारित किया,लेकिन भारतीय संस्कृति हमेशा ही पर्यावरण के प्रति सजग और जागरूक रही है चाहे वह जंगली जीवों की सुरक्षा हो या वनस्पति की अथवा प्रकृति की। भारतीय संस्कृति के अनुसार प्रकृति को एक दैवीय शक्ति का स्वरूप माना जाता रहा है और यही कारण है कि प्रत्येक भारतीय प्रकृति की सुरक्षा और पर्यावरण की शुद्धता के लिए वचनबद्ध रहा है।

वर्तमान परिवेश में बढ़ती आधुनिकता के कारण जो गिरावट पर्यावरण में दर्ज हुई है वो चिंतनीय है। आज महती आवश्यकता है कि हमें पर्यावरण के प्रति जागरूक होते हुए पूरी निष्ठा और ईमानदारी से ऐसे कदम उठाने होंगे जो हमारे पर्यावरण को शुद्ध रखें और सकारात्मक सोच से सराबोर रखें।नगर में लगभग 3000 गूगल फॉर्म हवन यज्ञ हेतु ऑनलाइन आवेदन किए गए वहीं अधिकांश परिवार ऐसे भी रहे जिन्होंने फॉर्म तो आवेदित नहीं किया लेकिन अपने घरों में हवन यज्ञ कर वातावरण की शुद्धि एवं कोरोना मुक्ति की प्रार्थना की। इस अवसर पर प्रमुख रूप से विभाग सह कार्यवाह बृजेश,महानगर कार्यवाह गौरव,सह कार्यवाह सौरभ,सह कार्यवाह राम कुमार गुप्ता,प्रचार प्रमुख ललित मोहन सक्सैना,संपर्क प्रमुख अभिषेक,सेवा प्रमुख सत्यम,नगर कार्यवाह एवं कार्यकारिणी स्वयंसेवक,विभूति वर्मा व समाज के लोग उपस्थित रहे।

पर्यावरण दिवस पर क्या करें और क्या न करें-

हर माह एक पौधे का रोपण एवं रक्षण।
प्रतिदिन एक अनाथ पौधे को पानी देना।
घर में ए.सी.का उपयोग न करें अथवा कम से कम करें।
सोलर एवं बायो ऊर्जा का उपयोग करें।
10 लीटर से कम पानी में स्नान करना।
खेत में रसायन का प्रयोग न करना अथवा बहुत कम करना।
खेत की मेड़ पर पेड़ लगाना।
जैव काष्ट को आग न लगाना।
देशी गाय का पालन करना अथवा गोपालक की सहायता करना।
घर से थैला लेकर जाना एवं पॉलिथीन का कम से कम उपयोग करना।
कम दूरी होने पर पैदल जाना वाहन का उचित प्रयोग करना।
प्रतिदिन कचरे को सुनियोजित तरीके से नष्ट करना।
जंगलों के प्रति संवेदनशील रहना व उन्हें बचाना।
पर्यावरणीय प्रेरणा देना।
पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से अन्य से अन्य कार्य भी करना।

विभाग प्रचारक
धर्मेन्द्र भारत

Share