सद्भावना भवन में राजयोगिनी दादी हृदयमोहिनी की याद में श्रद्धांजलि समारोह आयोजित

सद्भावना भवन में राजयोगिनी दादी हृदयमोहिनी की याद में श्रद्धांजलि समारोह आयोजित

सिरसा। {सतीश बंसल}  स्थानीय सी-ब्लॉक स्थित सद्भावना भवन में ब्रह्माकुमारीज संस्था की प्रशासिका के निमित्त स्नेहांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें परम आदरणीय दीदी हृदयमोहिनी जी जो कि मार्च 2020 में संस्था की प्रशासिका बनीं। राजयोगिनी दादी हृदयमोहिनी जो 9 वर्ष की अल्पायु में इस संस्था में आए और उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन परामत्मा सेवार्थ अर्पित कर दिया।

बीती 11 मार्च को महाशिवरात्रि के दिन 93 वर्ष की आयु में उन्होंने भौतिक देह का त्याग किया। इनका जीवन परिचय सुनाते हुए सद्भावना भवन की संचालिका ब्रह्माकुमारी प्रीति बहन कहा कि ऐसा व्यक्तित्व जिसका सम्पूर्ण जीवन मानव सेवा में अर्पित हुआ, उनकी शिक्षाएं, यादें, अनमोल प्रेरणाएं लोगों के दिलों में जीवन्त हैं और जीवन्त रहेंगे। दादी जी को दिव्य-दृष्टि का वरदान प्राप्त था। वे बचपन से ही ध्यान में जाया करती थीं। उन्होंने अनेक गहन आध्यात्मिक रहस्यों पर से पर्दा उठाने में सहयोग दिया।

ब्रह्माकुमारी संस्थान के विकास में उनकी अहम भूमिका रही है। उन्होंने लाखों लोगों का परमात्मा से मिलन करवाया। उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी कि हम उनकी तरह सभी के लिए शुभ सोचें और सबको सुख प्रदान करें। सद्भावना भवन ट्रस्टी ब्रह्माकुमार सुभाष भाई जी ने दादी जी के अंग-संग बिताए पलों को सांझा करते हुए भावपूर्ण श्रद्धा-सुमन अर्पित किए।

ब्रह्माकुमारी शमां बहन ने दादी जी के साथ अपने अनुभव सांझे करते हुए कहा कि मैं जब दादी जी से प्रथम बारी मिली तो दादी ने प्रसाद देते हुए अपने हाथ में मेरा हाथ लेते हुए कहा कि ‘सदा खुश रहो’ और मैं तब से मैं सदा खुश ही रहती हूंं। अंत में शहर के गणमान्य लोगों भूपेश मेहता, वीरभान मेहता, रमेश मेहता, ओमप्रकाश मेहता, ज्ञानचन्द मेहता, बी.के. देवराज, बी.के. चन्द्र भाई सहित अन्यजनों ने दादी जी को पुष्पों से श्रद्धांजलि अर्पित की।

Share