मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी, सोशल मीडिया पर लोग दे रहे श्रद्धांजलि

मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी, सोशल मीडिया पर लोग दे रहे श्रद्धांजलि

नई दिल्ली ।  26/11  Mumbai Attack: महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में साल 2008 में हुए आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी है। इस हमले को भारत के इतिहास का सबसे भयावह आतंकी हमला माना जाता है। वर्ष 2008 में 26 नवंबर के दिन 10 पाकिस्तानी आतंकवादी समुद्र मार्ग से मुंबई पहुंचे थे और कई स्थानों पर अंधाधुंध गोलीबारी की थी, जिसमें 18 सुरक्षाकर्मी समेत 166 लोग मारे गए थे। साथ ही कई अन्य लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे।


आतंकवाद को जड़ से मिटाने हेतु संकल्पित
यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने माइक्रो-ब्लागिंग ऐप Koo पर पोस्ट कर कहा कि मुंबई 26/11 आतंकी हमले में काल-कवलित हुए सभी निर्दोष नागरिकों व मां भारती की रक्षा हेतु बलिदान देने वाले समस्त वीर जवानों को भावपूर्ण नमन व विनम्र श्रद्धांजलि। हम सभी उनके शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं।
आइए, एकजुट होकर आतंकवाद को जड़ से मिटाने हेतु संकल्पित हों। मुंबई 26/11 आतंकी हमले में काल-कवलित हुए सभी निर्दोष नागरिकों व माँ भारती की रक्षा हेतु बलिदान देने वाले समस्त वीर जवानों को भावपूर्ण नमन व विनम्र श्रद्धांजलि।      हम सभी उनके शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं।   आइए, एकजुट होकर आतंकवाद को जड़ से मिटाने हेतु संकल्पित हों  तारिक फतेह ने Koo पर पोस्ट कर कहा कि जब मुंबई जल रहा था, गृह सचिव और अन्य शीर्ष अधिकारी पाकिस्तान के आतिथ्य का आनंद लेने में व्यस्त थे। ये मुंबई हमले से जुड़े सबसे अहम खुलासे में से एक है। सिर्फ इसलिए नहीं कि इसे सामने आने में साढ़े सात साल लगे, बल्कि इसलिए भी कि इस बात का कोई पुख्ता स्पष्टीकरण नहीं है कि वरिष्ठ अधिकारियों ने पाकिस्तान में रहने का विकल्प क्यों चुना।  वहीं, जितेंद्र वर्मा ने Koo पर पोस्ट कर कहा कि परमबीर सिंह ने कसाब का फोन लिया था। जिसे लौटाया नहीं।   मुंबई हमला: जाने उस दिन क्या हुआ था
आतंकियों ने सबसे पहले रात 9.30 बजे छात्रपति शिवाजी रेलवे टर्मिनस पर गोलीबारी की। आतंकियों ने एके-47 से 15 मिनट गोलीबारी कर 52 लोगों की जान ले ली, साथ ही 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए। वहीं, इस बाद रात करीब 10.30 बजे विले पारले इलाके में एक टैक्सी को बम से आतंकियों ने उड़ा दिया था। इसमें टैक्सी ड्राइवर समेत एक यात्री की मौत हो गई थी। वहीं, इसके तुरंत 15 मिनट बाद बोरीबंदर से एक और टैक्सी को बम से उड़ा दिया जिसमें दो यात्रियों की मौत हो गई और करीब 15 लोग घायल हो गए थे। आतंकियों ने मुंबई के ताज होटल, ओबेरॉय ट्राइडेंट होटल और नरीमन हाउस में भी हमला बोला। वहीं, सुरक्षा बलों ने 29 नवंबर की सुबह तक हमलावर 9 आतंकियों को मार गिराया था, जबकि अजमल कसाब पुलिस गिरफ्त में था।

Share