प्रथम शिक्षिका सावित्रीबाई फुले के योगदान पर डाला प्रकाश

प्रथम शिक्षिका सावित्रीबाई फुले के योगदान पर डाला प्रकाश

-राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सामाजिक समरसता गतिविधि ने किया कार्यक्रम

समय भास्कर,फिरोजाबाद। देश की प्रथम शिक्षिका सावित्रीबाई फुले की स्मृति में संघ कार्यालय चंद्रभवन पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें प्रथम शिक्षिका सावित्रीबाई फुले के योगदान पर प्रकाश डाला गया।

कार्यक्रम में मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के चंदनगर विभाग प्रचारक धर्मेंद्र भारत ने कहा कि सावित्रीबाई फुले ने समाज के उत्थान में बहुत बड़ा योगदान दिया है। जिसको भुलाया नहीं जा सकता। सावित्री बाई का विवाह 3 साल की उम्र में  हुआ था। उन्होंने बाल विवाह और सती प्रथा जैसी बुराइयों के खिलाफ आवाज उठाई। अपने पति ज्योतिराव के साथ मिलकर उन्होंने महिला शिक्षा पर बहुत जोर दिया। लड़कियों की शिक्षा के लिए 18 स्कूल खोले। समाज में व्याप्त जाति प्रथा को खत्म करने के लिए भी कार्य किया।कार्यक्रम की अध्यक्षता सामाजिक समरसता की प्रांतीय कार्यकारिणी सदस्य योगिता सोनी ने की।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से अम्बेश शर्मा,विभाग सामाजिक समरसता प्रमुख रमाकांत बंटी, सामाजिक समरसता प्रमुख महानगर अतुल यादव,शहर सामाजिक समरसता प्रमुख,विभूति वर्मा राष्ट्र सेविका समिति,अनुपम शर्मा,सरिता वर्मा,सोनू गुप्ता,मनोरमा,ममता आदि उपस्थित रहे।

Share