वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम मोदी ने लोगों से कहा, 21 दिनों तक प्रतिदिन 9 गरीब परिवारों की मदद करें

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 मार्च यानी बुधवार को शाम 5 बजे से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग  के जरिए वाराणसी  के लोगों के साथ कोरोना वायरस के मुद्दे पर संवाद किया.पीएम मोदी ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी.इस मौके पर उन्होंने लोगों से इस बातचीत में शामिल होने की अपील की थी.

पीएम मोदी ने मंगलवार 24 मार्च को देश को संबोधित किया था.इसमें उन्होंने पूरे देश में लॉकडाउन (रुशष्द्मस्रश2ठ्ठ) की घोषणा की थी.वाराणसी के लोगों के साथ कोरोना वायरस पर की जाने वाली यह बातचीत राष्ट्रीय प्रसारक दूरदर्शन और नमो ऐप पर लाइव प्रसारित हुई.

बता दें वाराणसी में अब तक सिर्फ एक व्यक्ति को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है. हालांकि वहां पर 23 मार्च से ही पूरी तरह से कर्फ्यू लागू है.वाराणसी की अन्य जिलों से लगने वाली सीमाओं को भी 25 मार्च को बंद कर दिया गया था.जिसके बाद पीएम मोदी ने भी पूरे देश में 21 दिनों के संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा कर दी.

प्रधानमंत्री ने काबुल में गुरुद्वारे पर हुए हमले के प्रति दुख जताया और इसमें मारे गए सभी लोगों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट की.प्रधानमंत्री ने नौरोज और चैत्र नवरात्र के पहले दिन बातचीत के लिए समय निकालने के लिए लोगों का धन्यवाद किया.

कोरोना की दवाइयों को लेकर फैली गलतफहमी पर पीएम मोदी ने बताया,कोरोना के संक्रमण का इलाज अपने स्तर पर नहीं करें. ध्यान रखें कि अभी तक कोरोना के खिलाफ कोई भी दवा,कोई भी वैक्सीन पूरी दुनिया में नहीं बनी है.हमारे और दूसरे देशों में वैज्ञानिक इस पर काम कर रहे हैं लेकिन मैं आपसे कहूंगा कि आपको कोई भी दवा सुझाए तो भी डॉक्टर से बात करके ही कोई दवा लें.

देश में मजदूरों के कई जगह फंस जाने और गरीबों की रोजी-रोटी को लेकर लिए किए गए एक सवाल के जवाब में पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना का जवाब करुणा से दिया जाना चाहिए.हम जरूरतमंदों के प्रति करुणा दिखाने का एक कदम उठा सकते हैं.

उन्होंने इस समय में डॉक्टरों और नर्सों को ईश्वर का रूप बताया.उन्होंने कहा,आज से नवरात्र शुरू हुए हैं.देश में जिनके पास शक्ति हो,अगले 21 दिन तक प्रतिदिन 9 गरीब परिवारों की मदद करने का प्रण लें.उन्होंने कहा कि अगर हम इतना कर लें तो इससे बड़ी मां की सेवा क्या हो सकती है! उन्होंने लोगों से पशुओं का भी ध्यान रखने को कहा.

वाराणसी से पूछे एक प्रश्न का जवाब देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कई लोगों को कोरोना को लेकर गलतफहमी है.उन्होंने कहा कि कई बार अहम बातें जो प्रामाणिक होती हैं,उस पर कुछ लोगों का ध्यान ही नहीं जाता है.उन्होंने ऐसे लोगों से आग्रह किया कि जितनी जल्दी हो सके गलतफहमी छोड़ सच्चाई को स्वीकारें.उन्होंने बताया कि यह बीमारी किसी से भेदभाव नहीं करती.

उन्होंने कहा कि यह वायरस किसी बहुत व्यायाम करने वाले व्यक्ति को भी संक्रमित कर सकता है.उन्होंने बताया कि सरकार ने वॉट्सऐप के साथ मिलकर एक हेल्पडेस्क भी बनाई है.जिसके जरिए आप 9013151515 पर वॉट्सऐप कर इस सेवा से जुड़ सकते हैं और जानकारियां पा सकते हैं.