तीन माह से लम्बित है नलकूप ऑपरेटर का टेंडर,बाधक बनी शर्तो की दीवार

तीन माह से लम्बित है नलकूप ऑपरेटर का टेंडर,बाधक बनी शर्तो की दीवार

पुराने ठेकेदार को लाभ दिलाने के लिए रखी गई उसी अनुरूप शर्तें

तीन माह से लगातार पुराने ठेकेदार को दिया जा रहा एक्सटेंशन

फिरोजाबाद। लगातार एक्सटेंशन,आखिर क्यों नहीं हो पा रहा है ट्यूबवेल ऑपरेटर का ठेका। ऐसी क्या शर्ते हैं है कि एक ठेकेदार के अलावा कोई दूसरा ठेकेदार टेंडर की मानक को पूरा नहीं करता। पूरे जनपद में ऐसा कोई दूसरा ठेकेदार नहीं है। आखिर कितने महीनों तक ठेकेदार को एक्सटेंशन दिया जाएगा। कहीं यह विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत तो नहीं। बिना टेंडर के प्रतिमाह जलकल विभाग द्वारा पुराने नलकूप ठेकेदार को लाखों रुपए की धन राशि का भुगतान किया जा रहा है।

नगर निगम के जलकल विभाग में नलकूप ऑपरेटरों का ठेका बिना टेंडर हुए ही तीन महीने से चल रहा है। विभाग के अधिकारी पुराने टेंडर को लगातार एक्सटेंशन दे रहे हैं। जबकि टेंडर एक वर्ष का होता है। और वित्तीय वर्ष खत्म होने पर दोबारा से टेंडर की प्रक्रिया शुरू होती है। इस बार शासन ने टेंडर की प्रक्रिया में बदलाव किया है। सरकार के आदेश अनुसार इस वर्ष पेपर टेंडर ना कराकर जेम पोर्टल के माध्यम से नलकूप चलाने हेतु ट्यूबवेल ऑपरेटरों की आपूर्ति (440 श्रमिकों) का ठेका होना है । लेकिन नगर निगम द्वारा नलकूप ऑपरेटर टेंडर के लिए जो शर्तें रखी गई है,वह टेंडर प्रक्रिया में बाधा बन रही है नगर निगम से जुडे ठेकेदारों का कहना है कि पुराने ठेकेदार को लाभ पहुंचाने के लिए शर्ते बढ़ाई गई है ।

नगर निगम प्रशासन द्वारा नलकूप ऑपरेटर के नाम पर बर्षों से प्रतिमाह लाखों रुपए खर्च किया जा रहा है। इसके बावजूद शहर में सर्दी हो या गर्मी का मौसम । हर समय पानी की समस्या से लोगों को रूबरू होना पड़ता है। नलकूप ऑपरेटर ठेका में पुराने ठेकेदार की मोनोपोली लागू करने में नगर निगम के कुछ अधिकारी कर्मचारी भी सहयोगी की भूमिका निभा रहे हैं । वर्तमान में नलकूप ऑपरेटर का ठेका संचालित कर रहे ठेकेदार पर भ्रष्टाचार की भी आरोप लगते रहे हैं। लेकिन महापौर महोदय एवं नगर निगम के अधिकारी इस मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं।

3 माह से बिना टेंडर के चल रहे नलकूप ऑपरेटर के ठेके पर जलकल विभाग के एई शिवराज वर्मा का कहना है कि जेम पोर्टल पर टेंडर लोड होता है,टेंडर तीन चार बार अप्लाई हुआ है,अभी क्लियर नहीं हो पाया है,टेंडर प्रक्रिया में है। जलकल विभाग के महाप्रबंधक आर.बी.राजपूत ने बताया के प्रथम और द्वितीय पक्ष( विभाग और ठेकेदार की सहमति से) ठेके को बढ़ाया जा सकता है।

वर्षों से एक ही ठेकेदार को मिल रहा टेण्डर

वर्तमान में नगर निगम क्षेत्र में 7. 20 लाख की आबादी पर 227 नलकूप क्रियाशील है। जिनसे शहर में 48 एमएलडी पानी की आपूर्ति होती है।जलकल विभाग के द्वारा नलकूप ठेकेदार को तकरीबन 65 से 70 लाख रुपए की धनराशि का भुगतान किया जाता है। पिछले कई वर्षों से नलकूप ऑपरेटर का ठेका मनोज कुमार अग्रवाल के पास ही है।

 

Share