Home Business स्टेट बैंक ऑफ इंडिया अपने ग्राहकों को देगा ये खास सुविधा

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया अपने ग्राहकों को देगा ये खास सुविधा

नई दिल्ली. देश का सबसे बड़ा बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) अपने ग्राहकों को एक खास सुविधा देता है जिसके जरिए आप अपने बैंक खाते (Bank Account) से उसमें मौजूद बैलेंस ही निकाल सकते हैं. बैंक की इस सुविधा को ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी (Overdraft Facility) के तौर पर जाना जाता है।

क्या है ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी?
ओवरड्राफ्ट एक तरह का लोन होता है. इसके चलते कस्टमर्स अपने बैंक अकाउंट से मौजूदा बैलेंस से ज्यादा पैसे विदड्रॉ कर सकते हैं. इस अतिरिक्त पैसे को एक निश्चित अवधि के अंदर चुकाना होता है और इस पर ब्याज भी लगता है. ब्याज डेली बेसिस पर कैलकुलेट होता है. ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी कोई भी बैंक या नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (NBFC) दे सकती है. आपको मिलने वाले ओवरड्राफ्ट की लिमिट क्या रहेगी, यह बैंक या NBFCs तय करते हैं।

SBI की चेतावनी! फोन चार्ज करते वक्त खाली हो सकता है आपका खाता, ऐसे रहें सेफ ऐसे कर सकते हैं अप्लाई बैंक अपने कुछ ग्राहकों को प्रीअप्रूव्ड ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी देते हैं. वहीं कुछ कस्टमर्स को इसके लिए अलग से मंजूरी लेनी होती है

इसके लिए लिखित में या इंटरनेट बैंकिंग के जरिए अप्लाई करना होता है. कुछ बैंक इस सुविधा के लिए प्रोसेसिंग फीस भी वसूलते हैं. ओवरड्राफ्ट दो तरह के होते हैं-एक सिक्योर्ड, दूसरे अनसिक्योर्ड. सिक्योर्ड ओवरड्राफ्ट वह है, जिसके लिए सिक्योरिटी के तौर पर कुछ गिरवी रखा जाता है।

आप एफडी, शेयर्स, घर, सैलरी, इंश्योरेंस पॉलिसी, बॉन्ड्स आदि जैसे चीजों पर ओवरड्राफ्ट हासिल कर सकते हैं. इसे आसान भाषा में एफडी या शेयर्स पर लोन लेना भी कहते हैं. ऐसा करने पर ये चीजें एक तरह से बैंक या NBFCs के पास ​गिरवी रहती हैं. अगर आपके पास कुछ भी सिक्योरिटी के तौर पर देने के लिए नहीं है तो भी आप ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी ले सकते हैं. इसे अनसिक्योर्ड ओवरड्राफ्ट कहते हैं. उदाहरण के तौर पर क्रेडिट कार्ड से विदड्रॉल।

मिलता है ये फायदा
जब आप लोन लेते हैं तो उसे चुकाने के लिए एक अवधि तय होती है. अगर कोई लोन को अवधि से पहले चुका दे तो उसे प्रीपेमेंट चार्ज देना होता है लेकिन ओवरड्राफ्ट के साथ ऐसा नहीं है।

आप तय अवधि से पहले भी बिना कोई चार्ज दिए पैसे चुका सकते हैं. साथ इस पर ब्याज भी केवल उतने ही वक्त का देना होता है, जितने वक्त तक ओवरड्राफ्टेड अमाउंट आपके पास रहा. इसके अलावा आपको EMI में पैसे चुकाने की भी बाध्यता नहीं है. आप तय अवधि के अंदर कभी भी पैसे चुका सकते हैं. इन चीजों के चलते यह लोन लेने से ज्यादा सस्ता और आसान है।

रखें ये ध्यान
अगर आप ओवरड्राफ्ट नहीं चुका पाते हैं तो आपके द्वारा गिरवी रखी गई चीजों से इसकी भरपाई होगी. लेकिन अगर ओवरड्राफ्टेड अमाउंट गिरवी रखी गई चीजों की वैल्यु से ज्यादा है तो बाकी के पैसे आपको चुकाने होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

फूलगोभी खाओ मोटापा कम होगा

दिल्ली। सब्जियों में लोकप्रिय सब्जी और सुपर फूड कही जाने वाली फूलगोभी (cauliflowe) हमारे स्वास्थ के लिए बहुत लाभकारी है. क्रूसिफेरस परिवार से संबंध...

रंगो से नही पटाखों से खेली जाएगी होली

जोधपुर। अब से कुछ दिनों बाद ही होली(Holi) का त्यौहार आने वाला है और जिसको लेकर बाजारों में रंगों की दुकानें सजने लग गई...

अपाचे हेलीकॉप्टर इतना घातक है कि 1 मिनट में 128 टारगेट तबाह कर देता है,जाने इसकी खासियत ?

मोदी सरकार ने थल सेना के लिए अमेरिका से 6 अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर (Apache Attack Helicopter) मंगाने के लिए कॉन्ट्रैक्ट साइन किया है. ये...

CBSE ने 28 और 29 फरवरी को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में होने वाली बोर्ड परीक्षा स्थगित की

नई दिल्ली. दिल्ली हिंसा (Delhi Violence)के मद्देनजर सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में 28 और 29 फरवरी को होने वाली...

Recent Comments