खबर छपते ही बदल गया मानक बोर्ड का विवरण

खबर छपते ही बदल गया मानक बोर्ड का विवरण

नगर निगम के विकास कार्यों के मानक बोर्ड पर नहीं लिखी गई थी लंबाई चौड़ाई

फिरोजाबाद। नगर निगम द्वारा कराए जा रहे विकास कार्य के मानक बोर्ड मनमानी का माध्यम बन रहे हैं। मानक बोर्ड पर निर्माण कार्य की लंबाई चौड़ाई अंकित ना होने के कारण आमजन को सही जानकारी नहीं मिलती। लेबर कॉलोनी में निर्मित सड़क के मानक बोर्ड को लेकर समय भास्कर ने इस धांधली को प्रकाशित किया,तो उसके चंद दिन बाद ही मानक बोर्ड का विवरण बदलकर उसमें लंबाई चौड़ाई भी अंकित करा दी गई। सवाल यह उठता है, कि अगर लंबाई चौड़ाई बोर्ड पर अंकित करना नियम में शामिल नहीं है,तो फिर खबर छपने के बाद मानक बोर्ड पर लंबाई चौड़ाई का विवरण अंकित कराने की याद क्यों आई।

नगर निगम द्वारा लेबर कॉलोनी क्षेत्र में पिछले माह कराए गए सड़क निर्माण कार्य के मानक बोर्ड पर लंबाई चौड़ाई अंकित नहीं की गई थी। यही नहीं कुछ सड़कों के निर्माण कार्य के समय मानक बोर्ड ही नहीं लगाए गए। हालांकि विभागीय अधिकारियों का संरक्षण होने के कारण इन ठेकेदारों के भुगतान भी आनन-फानन में करा दिए गए स्थानीय लोगों द्वारा सड़क निर्माण में गुणवत्ता का ध्यान ना रखे जाने तथा सड़क की लंबाई और चौड़ाई कम होने को लेकर सवाल उठाए जाने के बाद भी अवर अभियंता ने निर्माण कार्य की गुणवत्ता को सही ठहरा दिया।

समय भास्कर की टीम द्वारा स्थानीय लोगों द्वारा मानक बोर्ड पर अंकित विवरण को लेकर उठाए गए सवालों को प्रमुखता से प्रकाशित किया तो विभाग की नींद टूट गई। जिसके कारण चंद्र दिन पश्चात ही ठेकेदार के माध्यम से मानक बोर्ड पर लंबाई और चौड़ाई का विवरण भी अंकित करा दिया गया। हालांकि अधिकारी निर्माण कार्य की लंबाई- चौड़ाई का विवरण अंकित कराए जाने को मानक बोर्ड का हिस्सा नहीं मानते लेकिन सवाल यह उठता है,कि जो नियम में शामिल नहीं है। खबर छपने के पश्चात उसकी याद ठेकेदार को क्यों आई। ठेकेदार द्वारा मानक बोर्ड पर निर्माण कार्य के पश्चात एक माह से अधिक समय गुजरने के बाद लंबाई चौड़ाई का विवरण अंकित कराए जाने को लेकर स्थानीय लोग ठेकेदार एवं विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत पर सवाल उठा रहे हैं।

वर्जन——-

“जब लोग आपत्ति कर रहे हैं तो अब जो नगर निगम क्षेत्र में आगे विकास कार्य होंगे उनमें मानक बोर्ड पर लंबाई- चौड़ाई लिखवाया करेंगे।वैसे मानक बोर्ड में केवल मानक ही लिखें जाते हैं,कि क्या मानक यूज किए जा रहे हैं”- ए.के. पांडे,अधिशासी अभियंता निर्माण विभाग नगर निगम फिरोजाबाद।

 

Share