ओलंपिक में हिस्सा लेंगी 3×3 भारतीय बास्केट बॉल टीम

IMG-20180826-WA0012
शैलेंद्र पांडेय
मुंबई  । 2020 में होनेवाले समर ओलंपिक गेम्स में इस बार 3×3 भारतीय बास्केट टीम हिस्सा लेंगी। एन बी ए के तर्ज पर भारत में भी बास्केट बॉल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है। 3BL के लीग कमिश्नर रोहित बख्शी से हुई ख़ास बात-चीत के सारांश। रोहित एक अंतरराष्ट्रीय स्तर के बास्केट बॉल खिलाड़ी रह चुके है और उन्हें लगा कि जब भारतीय खिलाड़ी दूसरे देशों के क्लबो के लिए खेलते हुए उन्हें एक उच्च दर्जा दिला सकते है तो अपने देश के लिए क्यूँ नही।
3×3 बास्केट बॉल भारत मे ज्यादा प्रचलित नही है, इस खेल को एक लीग के रूप में यहाँ लेकर आएं है। इसकी शुरुवात कैसे हुई?
भारत मे लोगों को मनोरंजन चाहिए, चाहे वो किसी भी खेल के माध्यम से हो। बास्केट बॉल दुनिया मे दूसरा सबसे ज्यादा प्रचलित खेल है। तकरीबन में 144 देशों में लोग इसे खेलते है। भारत मे भी लोग खेलते है पर यह क्रिकेट या फिर अन्य खेलों की तरह ज्यादा प्रचलित नही है। लेकिन ज्यादा प्रचलित होने का यह कतई मतलब नही है कि अपने देश मे टैलेंट की कोई कमी है।
भारतीय खिलाड़ी दूसरे देशों में जाकर इस खेल का प्रतिनिधित्व कर रहे है ऐसे में अगर हम उन्हें एक प्लेटफॉर्म मुहैया कराते है तो अन्य खेलों की तरह ही बास्केट बॉल में भी लोगो की रुचि बढ़ेगी। 3×3 एक शॉर्ट फॉर्म है गेम का और आजकल लोगो को शार्ट फॉर्म ज्यादा अच्छे लगते है।
इसे आप आपीएल के तर्ज पर चलना चाहते है?
हमारा मकसद है कि यह गेम लोग देखे इससे जुड़े, पर सबसे पहले हमारा लक्ष्य यह है कि 3×3 भारत बास्केट बॉल में गोल्ड मैडल लेकर आए। ओलम्पिक में, कॉमन वेल्थ गेम्स में। और मुझे यकीन है कि ऐसा हो सकता है। मनोरंजन भी ज़रूरी है, लोग इस लीग को देखने के बाद इससे ज़रूर जुड़ेंगे।
2020 में होनेवाले ओलंपिक में 3×3 बास्केट बॉल गेम को जोड़ा गया है और भारत उसमे हिस्सा लेगा। कॉमनवेल्थ गेम्स में भी बास्केटबॉल में भारत खेलेगा ऐसे में सबसे ज्यादा जरूरी यह है कि इस खेल में हम विश्वस्तर के खिलाड़ी बनाये और देश के लिए गोल्ड मेडल लेकर आए।
भारतीयों के अलावा यहाँ पर विदेशी भी खेल रहे है इस लीग में क्या किसी विदेशी खिलाड़ी के नेतृत्व में ओलंपिक में भाग लिया जा सकता है?
फिलहाल जो फॉर्मेट है, वर्ल्ड टूर इसमें कोई फर्क नही पड़ता कि खिलाड़ी दुनिया के किस हिस्से से है। हाँ ओलंपिक में जाने के लिए भारतीय पासपोर्ट होना अनिवार्य है। मुझे यकीन है कि 2020 तक हमारे पास कई अंतरष्ट्रीय स्तर के भारतिय मूल के खिलाडी उभर कर आएंगे।
इस लीग की फंडिंग कौन कर रहा है क्या इससे सेलिब्रिटी भी जुड़े है?
अभी तक तो इसकी फंडिंग लीग ही कर रहा है। हमारे साथ पूजा भट्ट जी जुड़ी हुई है जो एक एक्ट्रेस के साथ साथ डायरेक्टर और निर्माता भी है। उन्होंने एक गेम देखा और उन्हें यह पूरा फॉर्मेट बहुत अच्छा लगा और उन्होंने हमसे जुडने के लिए इच्छा जाहिर की और आज वो दिल्ली हूपर टीम की ओनर है।
आगे और भी सेलेब्रिटीज़ हमसे जुड़ना चाहेंगे या नही वो मुझे नही पता पर इस गेम को लेकर लोगो मे एक अच्छा खासा उत्साह है आज तकरीबन 15 लोग मुझसे कहा चुके है कि वो हमसे जुड़ना चाहते है। आनेवाले समय में कुल 12 टीमें होंगी जिसे ऑक्शन के ज़रिये लोग ले सकेंगे।
बास्केट बॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया से आपको क्या सपोर्ट मिल रहा है क्या आप ही कि तरह वो इस खेल को लेकर उत्साहित है।
फेडरेशन से हमे काफी टेक्निकल सपोर्ट मिल रही हैं। अभी तक हमे कोई मॉनेटरी सपोर्ट तो नही मिला है पर हम जिस शहर में भी जाते है फेडरेशन हमें सपोर्ट देता है।
अगले पाँच साल में आप इस गेम को कहाँ देखते है?
अगले पाँच सालो में अपने देश के लिए गोल्ड मेडल देख रहा हूँ। मैं इस खेल के ज़रिए खिलाडियों को अंतरष्ट्रीय स्टार बनाना चाहता हूँ। और मुझे पूरा यकीन है कि वो दिन भी आएगा जब लोग टिकट खरीद कर स्टेडियम में मैच देखने आएंगे।
लोगो को बड़ा ताजुब होता है जब वो सुनते ही कि हम एक माल में लीग का आयोजन कर रहे है। मैं चाहता हूँ कि जिस चाव से लोग भारत पाकिस्तान का मैच देखने के लिए सबकुछ छोड़ देते है उसी तरह की दीवानगी 3×3 बास्केट बॉल के लिए भी हो।

more recommended stories