बंगाल में सातवें चरण की वोटिंग खत्म,29 अप्रैल को आखिरी फेज की वोटिंग

 बंगाल में सातवें चरण की वोटिंग खत्म,29 अप्रैल को आखिरी फेज की वोटिंग

बंगाल। कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के सातवें चरण का मतदान आज छिटपुट हिंसा के बीच समाप्त हुआ।सातवें चरण में कोलकाता की 4, पश्चिम बर्दवान की 9, मुर्शिदाबाद की 9, मालदा की 6 और दक्षिण दिनाजपुर की 6 सीटों पर मतदान हुआ,लेकिन इन पांच जिलों में दक्षिण कोलकाता की सीटों पर सबसे कम मतदान हुआ।शाम 5 बजे तक औसत 75.06 प्रतिशत मतदान हुआ। दक्षिण दिनाजपुर में 80.21 प्रतिशत,मालदा में 78.76 प्रतिशत,मुर्शिदाबाद में 80.30 प्रतिशत,दक्षिण कोलकाता में 57.91 प्रतिशत और बर्दवान में 70.34 प्रतिशत मतदान हुआ।

वोटिंग के बाद शोभनदेव ने दावा किया कि कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो रहा है। इसके अलावा सत्तारूढ़ पार्टी ने आरोप लगाया है कि मुर्शिदाबाद के सूती विधानसभा क्षेत्र में लक्ष्मीपुर इलाके के मतदाताओं को सेंट्रल फोर्स के जवानों ने धमकी दी है और बीजेपी को मतदान करने के लिए कहा है। मुर्शिदाबाद के ही रानीनगर भी दिन भर सुर्खियों में बना रहा।इसी तरह से भवानीपुर और कोलकाता पोर्ट में भी छिटपुट हिंसा की खबर आती रहीं।

दूसरी ओर, आठवें चरण के लिए चुनाव प्रचार आज शाम थम गया।29 अप्रैल को 35 सीटों पर मतदान होगा.इस चरण में मालदा (6), मुर्शिदाबाद (11),कोलकाता (7) और बीरभूम (11) सीटों पर मतदान होंगे।यह अंतिम चरण का मतदान होगा।इस चरण के साथ ही सबसे बंगाल विधानसभा चुनाव का सबसे लंबा चुनाव समाप्त हो जाएगा।दो मई को चुनाव परिणाम घोषित होंगे।

कोरोना महामारी के बीच आज मतदान में दिन भर छिटपुट हिंसा की घटनाएं होती रहीं,हालांकि कोई बड़ी वारदात नहीं हुई।चुनाव के दौरान टीएमसी के उम्मीदवार लगातार सेंट्रल फोर्स पर आरोप लगाते दिखें।वहीं दक्षिण आसनसोल में बीजेपी की उम्मीदवार अग्निमित्रा पॉल भी टीएमसी पर आरोप लगाए।चुनाव से पहले आयोग ने दावा किया था कि मतदान के दौरान कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन कड़ाई से किया जाएगा।

 

Share