फिरोजाबाद जिले मेें 22 फरवरी से 21 अप्रैल तक लागू रहेगी धारा 144

फिरोजाबाद जिले मेें 22 फरवरी से 21 अप्रैल तक लागू रहेगी धारा 144

फिरोजाबाद। डीएम चंद्र विजय सिंह ने वर्तमान समय में कोरोना महामारी को दृष्टि गत रखते हुए जनपद की शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने हेतु 26 फरवरी को हज़रत अली का जन्म दिवस, 27 फरवरी को संत रबिदास जयंती तथा आगामी मार्च माह में 11को महाशिवरात्रि,28 को होलिका दहन,29 को शबे बरात,30 मार्च को होली,2 अप्रैल को गुड फ्राइडे,5 अप्रैल को ईस्टर मंडे/महर्षि कश्यप एवं महाराजा निषाद का जन्म दिवस,17 अप्रैल को चंद्रशेखर जयंती एवं 21 अप्रैल को रामनवमी को दृष्टि गत रखते हुये जनपद मेें धारा 144 लागू की हैं। जो 22 फरवरी से 21 अप्रैल 2021 2021 तक लागू रहेगी। उन्होंने बताया कि धारा 144 के प्रावधानों का उल्लंघन करने वालें को धारा 188 के अंतर्गत दण्डित किया जायेगा। उन्होंने अपने आदेश में कहा है कि प्रत्येक व्यक्ति अपने स्मार्ट मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु एप्प डाउनलोड करके रखेगा जिसके बिना किसी भी संचरण की अनुमति नही प्रदान की जाएगी।

प्रत्येक व्यक्ति द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्य रूप से किया जाएगा एवं कोरोना वायरस महामारी के सम्बन्ध में भ्रामक प्रचार व अफ़वाहों से दूर रहेंगे। उन्होंने कहा कि ड्यूटी पर लगे राजकीय कर्मचारियों के अतिरिक्त कोई भी व्यक्ति घातक हथियार,आग्नेयास़्त्र,लाठी डंडा जिनका प्रयोग किसी अपराध को करने हेतु संभावित हो के साथ जनपद की सीमा के अंतर्गत किसी भी सार्वजनिक स्थान पर विचरण नहीं करेगा और न ही किसी सार्वजनिक सम्पत्ति को हानि पहुचायेगा अथवा इसके लिये प्रेरित करेगा। सार्वजनिक स्थल पर मादक पदार्थ का सेवन भी प्रबंधित होगा। जनपद की सीमांतर्गत बिना सक्षम अधिकारी के पूर्व अनुमति के कोई सभा व अनशन अथवा जुलूस का आयोजन करेंगें। कोई व्यक्ति किसी प्रकार की अफ़वाह नहीं फैलायेगा और नहीं अपने भाषण,व्हाटसएप एवं फेसबुक आदि के माध्यम से ऐसी कोई सूचना प्रसारित नहीं करेगा जिससे पारंपरिक एवं अन्य सांप्रदायिक भावनायें आहत होती हों।

कोई भी व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह सक्षम अधिकारी की पूर्व अनुमति प्राप्त किए बिना किसी ध्वनि विस्तारक यंत्र का प्रयोग नहीं करेगा और न कोई धरना प्रदर्शन,हडताल,रैली अथवा आंदोलन आदि नहीं करेगा। कोई भी व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह किसी प्रकार की सार्वजनिक संपत्ति अथवा सरकारी संपत्ति को हानि नहीं पहुचायेगा और नहीं किसी अन्य को प्रेरित करेगा। कोई व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह परंपरागत रूप से मनाये जाने वाले धार्मिक पर्वों के संबंध में किसी प्रकार की नई परंपरा की शुरूआत नहीं करेगा और नहीं ऐसा कोई कार्य करेगा जिससे पर्व की पवित्रता व शांति व्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पडे। उन्होंने अपने आदेश में स्पष्ट कहा है कि इस निषेधाज्ञा का उल्लंघन भारतीय दंड विधान की धारा 188 के अंतर्गत दंडनीय अपराध होगा। चूंकि इस व्यवस्था के तहत जन समान्य को सुना जाना। अल्प समय के कारण संभव नहीं होगा। अतएवं यह आदेश एक पक्षीय रूप से पारित किया जाता है। यह आदेश जनपद के सभी क्षेत्रों के अंतर्गत सामान्य तौर पर निवास करने वाले और उक्त क्षेत्र में सामान्य रूप से आने जाने वालों पर भी लागू रहेगा। उन्होंने सभी जन सामान्य व सभी संबंधितों से अपील की है कि इस आदेश का कडाई से पालन करना सुनिश्चित करें।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.