सागर मर्डर केस: सुशील कुमार की तलाश में दिल्ली पुलिस

सागर मर्डर केस: सुशील कुमार की तलाश में दिल्ली पुलिस

नई दिल्ली। दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम से 4 मई 2021 को मारपीट की खबर आई थी। संघर्ष में जख्मी हुए एक पहलवान की मौत हो गई है। दिल्ली पुलिस को इस मामले में ओलंपियन सुशील कुमार की तलाश है। वे फिलहाल गायब हैं और उनका लोकेशन ट्रेस करने का प्रयास जारी है। मारे गए पहलवान की पहचान 23 वर्षीय सागर कुमार के तौर पर हुई है।

इससे पहले बुधवार को सुशील कुमार ने दावा किया था कि इस मामले से उनके पहलवानों का कोई लेना-देना नहीं है और इसके लिए बाहर से आए लोग जिम्मेदार हैं। एडिशनल DCP (नॉर्थ-वेस्ट) डॉक्टर गुरइकबाल सिंह सिद्धू ने बताया कि दिल्ली पुलिस जब सुशील कुमार के घर पहुँची तो वे वहाँ मौजूद नहीं थे, जिसके बाद से उनकी तलाश की जा रही है। कई पहलवान इस झड़प में घायल हुए थे।

इस मामले में 24 साल के प्रिंस दलाल को गिरफ्तार किया गया है। वह हरियाणा के झज्जर का रहने वाला है। छत्रसाल स्टेडियम में हुई झड़प के दौरान फायरिंग भी हुई थी। दलाल को डबल बैरेल लोडेड बंदूक के साथ दबोचा गया। मामले के एक अन्य आरोपित सोनू महल के बारे में पता चला है कि वो गैंगस्टर काला जठेड़ी का करीबी है। वह इससे पहले भी हत्या और डकैती के मामलों में जेल जा चुका है।

सिद्धू के मुताबिक पुलिस को पता चला है कि सुशील कुमार, अजय, प्रिंस, सोनू, सागर, अमित और अन्‍य लोगों के बीच स्‍टेडियम के पार्किंग क्षेत्र में झगड़ा हुआ था। मॉडल टाउन पुलिस थाने में FIR दर्ज की गई है। FSL (फॉरेंसिक साइंस लैब) रोहिणी के विशेषज्ञों ने घटनास्थल से फोरेंसिक सबूत भी जुटाए हैं।

आरोपितों की तलाश के लिए कई पुलिस टीमें गठित की गई हैं। इस मामले से जुड़े तकनीकी सबूत भी जुटाए गए हैं। मृतक सागर जूनियर नेशनल चैंपियनशिप विजेता था। उसके पिता दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल हैं। PCR कॉल के आधार पर दर्ज की गई FIR में इस घटना के लिए 2 बार के ओलंपिक मेडलिस्ट सुशील कुमार और उनके लोगों को आरोपित बनाया गया है।

बताया जा रहा है कि ये झड़प कई घंटों तक चली थी। सागर और उसके दोस्त सुशील कुमार से जुड़े ही एक घर में रहा करते थे, जहाँ से उन्हें कुछ दिनों पहले खाली करने को कहा गया था। PCR कॉल करने वाले ने रात के 2 बजे पुलिस को सूचना दी थी कि उसने दो लोगों को पिस्टल फायरिंग करते देखा है।

सुशील कुमार ने लंदन में हुए 2012 ओलंपिक खेल में सिल्वर मेडल जीता था। उससे पहले बीजिंग ओलंपिक में वे कांस्य पदक जीतने में कामयाब रहे थे। इस घटना को लेकर हुए खुलासों की मानें तो सुशील कुमार के साथ 5 गाड़ियों में सवार होकर लारेंस बिश्नोई व काला जठेड़ी गिरोह के दर्जन भर से अधिक बदमाश स्टेडियम पहुँचे थे, जहाँ उन्होंने वहाँ पहले से मौजूद पहलवानों को पीटा और गोलीबारी भी की।

इसमें कई पहलवान घायल हुए और रोहतक के बखेता गाँव निवासी सागर धनखड़ की मौत हो गई। पुलिस ने शुरुआती जाँच में संपत्ति विवाद का एंगल भी मिला है। संपत्ति विवाद को सुलझाने के लिए ही ये लोग वहाँ बातचीत करने पहुँचे थे। प्रिंस दलाल से पूछताछ में और खुलासे होने की संभावना है। दिल्ली पुलिस ने FIR में हत्या की धाराएँ लगाई हैं। पहलवानों और गैंगस्टर्स का ये नेटवर्क कैसे बना, इस पर जाँच जारी है।

Share