धर्म: मत्स्य पुराण का श्रवण कर धर्म लाभ उठा रहे श्रद्धालु

धर्म: मत्स्य पुराण का श्रवण कर धर्म लाभ उठा रहे श्रद्धालु

–श्रीकालेश्वर मंदिर परिसर में हो रही अठारह पुराणों की कथा
समय भास्कर संवाददाता,फरिहा। कस्बे के प्राचीन श्रीकालेश्वर महादेव मंदिर पर 18 पुराणों की कथा का आयोजन हो रहा है। जिसमें प्रतिदिन दर्जनों श्रद्धालु कथा का श्रवण करते हैं। श्री कालेश्वर महादेव मंदिर पर 18 पुराणों का आयोजन हो रहा है। जिसमे अभी 14 पुराण संपन्न हो चुके हैं।
पंद्रहवा पुराण मत्स्य पुराण का आयोजन चल रहा है। जिसके आचार्य विनय चेतन महाराज के मुखारविंद से वाचन किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि मत्स्य पुराण में जीवन के परम लक्ष्य मोक्ष की प्राप्ति के लिए मनुष्य मात्र को आचार विचार सुधारने के लिए सनातन धर्म के कर्मकांडो का विस्तृत वर्णन किया गया है। इस पुराण के पाठ करने और श्रवण से भक्तों को महान पुण्य की प्राप्ति होती है। मत्स्य पुराण 18 पुराणों में शामिल है। मत्स्य पुराण में श्री हरि के मत्स्य अवतार की कथा का वर्णन किया गया है। वैष्णव संप्रदाय से संबंधित मत्स्य पुराण व्रत,पर्व,दान,राजधर्म और वास्तु की दृष्टि से एक अत्यंत महत्वपूर्ण पुराण है। इस पुराण की श्लोक संख्या 14000 हैं। इसे 251 अध्याय में विभाजित किया गया है।अभी 3 पुराण और शेष हैं। कथा का नित्य श्रद्धालुगण भक्ति पूर्वक का आनंद ले रहे हैं।

Share