पंजाब: मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के कैबिनेट का हुआ विस्तार,इन लोगो ने ली शपथ

पंजाब: मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के कैबिनेट का हुआ विस्तार,इन लोगो ने ली शपथ

नई दिल्ली। पंजाब में नवनियुक्त मु्ख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के कैबिनेट का विस्तार हो गया है। राणा गुरजीत और रजिया सुल्ताना समेत 15 नेताओं ने मंत्री पद की शपथ ले ली है। पंजाब में नई कैबिनेट के लिए केंद्रीय कांग्रेस आलाकमान ने इन नामों पर मुहर लगाई थी। इस बैठक में राहुल गांधी भी शामिल थे।

मंत्रिमंडल के नए चेहरों ने पंजाब गवर्नर हाउस में शपथ ली। बता दें कि सुखजिंदर सिंह रंधावा और ओपी सोनी के नाम उपमुख्यमंत्री के लिए पहले ही तय हो चुके थे। विधायक ब्रह्म मोहिंद्रा ने सबसे पहले मंत्री पद की शपथ ग्रहण की। मोहिंद्रा कैप्टन सरकार में भी मंत्री रहे हैं। मनप्रीत सिंह बादल और तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा ने भी शपथ ली है।

राणा गुरजीत सिंह को शामिल करने का विरोध
चरणजीत सिंह चन्नी नीत पंजाब सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार से कुछ घंटे पहले रविवार को पिछली अमरिंदर सिंह सरकार के मंत्रियों के समूह ने उन्हें मंत्रिमंडल से बाहर निकाले जाने पर सवाल उठाया है। इससे पहले, राज्य के कांग्रेस नेताओं के एक वर्ग ने प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को पत्र लिखकर मांग की कि‘‘दागी‘’छवि वाले पूर्व मंत्री राणा गुरजीत सिंह को फिर से मंत्रिमंडल में शामिल न किया जाए। इन नेताओं का कहना है कि मंत्री पद उनकी (राणा गुरजीत) जगह साफ छवि वाले दलित नेता को दिया जाना चाहिए। इस पत्र की प्रति मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को भी भेजी गई है।

बलबीर सिद्धू के पास स्वास्थ्य विभाग था और राजस्व विभाग कांगड़ के पास था। दोनों ने लोगों के कल्याण के लिए की गई कई पहलों का विवरण दिया और कहा कि उन्होंने कड़ी मेहनत की है और कोई कसर नहीं छोड़ी है। सिद्धू ने कहा,‘‘मैं पार्टी आलाकमान से पूछना चाहता हूं कि मेरी गलती क्या है और मुझे क्यों बाहर रखा गया है।‘‘ उन्होंने कहा,‘‘मैं सोनिया गांधी का सिपाही हूं।‘’ सिद्धू ने कहा,‘‘उन्हें मेरा इस्तीफा मांगना चाहिए था और मैं खुशी-खुशी दे देता… मेरे क्षेत्र के लोग निराश हैं। मैं अपना विभाग खोने से परेशान नहीं हूं, मुझे सत्ता का कोई लालच नहीं है। लेकिन मैं पूछना चाहता हूं कि क्या जरूरत थी हमें अपमानित करने की ?‘‘

Share