Home

EVM पर प्रियंका गांधी का सवाल

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने असम  में निजी वाहन में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन ले जाये जाने से जुड़े कथित वीडियो को लेकर शुक्रवार को कहा कि इस पर निर्वाचन आयोग को निर्णायक कदम उठाने चाहिए तथा सभी राष्ट्रीय दलों को ईवीएम के उपयोग का गंभीर पुनर्मूल्यांकन’ करने की जरूत है। उन्होंने यह टिप्पणी उस वक्त की है जब सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक निजी वाहन में ईवीएम रखे होने और यह वाहन भाजपा के एक नेता का होने का दावा किया गया है।

प्रियंका ने यह वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया, जब भी निजी वाहन में ईवीएम ले जाये जाने के वीडियो सामने आते हैं तो ये चीजें आम होती हैं कि वाहन सामान्यत भाजपा उम्मीदवारों या उनके सहयोगियों का होता है, इन वीडियो को इकलौती घटना के तौर पर लिया जाता है और खारिज कर दिया जाता है। भाजपा अपनी मीडिया मशीनरी का इस्तेमाल कर उन लोगों को आरोपी बनाती है जिन्होंने इसका खुलासा किया होता है।

कांग्रेस महासचिव ने कहा, सच्चाई यह है कि इस तरह की कई घटनाओं की सूचना दी जा रही है और उनके बारे में कुछ भी नहीं किया जा रहा है। चुनाव आयोग को इन शिकायतों पर निर्णायक रूप से कार्रवाई करने और सभी राष्ट्रीय दलों द्वारा ईवीएम पर गंभीर पुनर्मूल्यांकन करने की आवश्यकता है।

बता दें कि प्रियंका गांधी के अलावा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नंदीग्राम निर्वाचन क्षेत्र में हिंसा की घटनाओं के बीच गुरुवार को निर्वाचन आयोग की निन्दा की और आरोप लगाया कि उनकी पार्टी द्वारा चुनाव संबंधी कई शिकायत दर्ज कराए जाने के बावजूद चुनाव इकाई कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। उन्होंने इस मुद्दे पर अदालत जाने की धमकी दी। इसके साथ ही ममता ने वोटिंग के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पश्चिम बंगाल में रैली को लेकर भी सवाल उठाए। उन्होंने चुनाव आयोग के रोल पर भी ऐतराज जताया।

नंदीग्राम के बोयाल में बूथ नंबर सात के बाहर व्हीलचेयर पर बैठीं बनर्जी ने कहा, हमने सुबह से 63 शिकायत दर्ज कराई हैं। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई है। हम इसे लेकर अदालत जाएंगे। यह अस्वीकार्य है। उन्होंने आरोप लगाया, निर्वाचन आयोग अमित शाह के इशारे पर काम कर रहा है। बनर्जी ने कहा, दूसरे राज्यों से आए गुंडे यहां व्यवधान उत्पन्न कर रहे हैं।

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख काफी समय से यह आरोप लगाती रही हैं कि मतदाताओं को धमकाने के लिए उनके प्रतिद्वंद्वी दूसरे राज्यों से गुंडे लेकर आए हैं। बनर्जी नंदीग्राम से अपने पूर्व सहयोगी शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं जो तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। तृणमूल कांग्रेस ने बूथ नंबर सात पर पुनर्मतदान कराए जाने की मांग की है और आरोप लगाया कि उसके कार्यकर्ताओं को भाजपा समर्थकों ने पीटा। एजेंसी

Related Articles

Back to top button