गर्भवती बाघिन को नाखूनों के लिए जिंदा जलाया

 गर्भवती बाघिन को नाखूनों के लिए जिंदा जलाया

यवतमाल। सोमवार की सुबह यवतमाल जिले के पांडारकवाड़ा तालुका में एक गर्भवती बाघिन के शिकार की घटना सामने आई। शिकारियों ने इस बाघिन के सामने की ओर के पंजे काट दिए। लगभग एक महीने पहले झरी तालुका में एक और बाघ भी इस तरह मृत पाया गया था। यवतमाल जिले में एक ही महीने में 2 बाघों के शिकार होने के बाद स्थानीय शिकारी गिरोह के तालुका में सक्रिय होने की खबर है।पंडारकवाड़ा वन विभाग के अंतर्गत मुकु टबन क्षेत्र में मांगुर्ला में आरक्षित वन कमरा नंबर 30 की सुबह गश्त के दौरान एक वन रेंजर को बाघिन का शव मिला। नाले के पास एक गुफा है और इस गुफा में बाघिन रहती थी। गुफा का प्रवेश द्वार बहुत छोटा है।

स्थानीय शिकारियों ने यह देखा होगा और गुफा में बाघिन को फंसाने के लिए बांस और अन्य सामग्रियों के साथ गुफा के प्रवेश द्वार में आग लगा दी थी। बाघिन मर गई या नहीं यह यह सुनिश्चित करने के लिए उन्होंने तेज वस्तुओं के साथ उसके शरीर में चाकू से वार किए। उसके मृत होने की पुष्टि होने के बाद उसके दोनों पंजे काट दिए गए।

इस बीच रेंजर ने इसकी जानकारी सीनियर्स को दी। प्रभागीय वन अधिकारी (वन्यजीव) सुभाष पुराणिक,मुकु टबन वन रेंज अधिकारी वीजी वारे,मुख्य वन संरक्षक वन्यजीव प्रकाश महाजन,मानद वन्यजीव संरक्षक डॉ. रमजान विरानी ​​मौके पर पहुंचे। लगभग चार वर्षीय बाघिन के गले में तार के निशान पाए गए। इलाके में बांस की छड़ें,क्लच तार और जलाने के निशान पाए गए। गर्भवती बाघिन के पेट में चार शावक थे। आरोपी की तलाश जारी है।

एक महीने में यवतमाल जिले में बाघ की मौत की यह दूसरी घटना है। दोनों ही मामलों में बाघ के अवैध शिकार का सबूत है। पिछले कुछ वर्षों में जिले में बाघों की संख्या में वृद्धि हुई है और बाघों का देखना आसान है, इसलिए स्थानीय शिकारी सक्रिय होने की बात कही जा रही हैं। गौरतलब है कि 22 नवंबर को उमरेड-करांडला अभयारण्य में भी एक गर्भवती बाघिन का शव मिला था। उसके गर्भ में भी चार शावक थे।

Share