पीएम मोदी ने किया पूर्वांचल एक्सप्रेस का उद्घाटन

पीएम मोदी ने किया पूर्वांचल एक्सप्रेस का उद्घाटन

लखनऊ। पीएम मोदी ने आज मंगलवार, 16 नवंबर को पूर्वांचल एक्सप्रेस का उद्घाटन किया। इस एक्सप्रेस वे के चालू होने के बाद न सिर्फ लखनऊ से गाजीपुर की यात्रा का समय कम होगा,बल्कि इस इलाके की तस्वीर भी पूरी तरह से बदल जाएगी। 22 हजार, 500 करोड़ रुपये की लागत से बना यह 6 लेन का एक्सप्रेस वे रिकॉर्ड 36 महीने में बनकर तैयार किया गया है। इसी के साथ इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही भी शुरू हो गई है। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि अब उत्तर प्रदेश की पहचान ‘एक्सप्रेस प्रदेश’ के रूप में होने लगी है,क्योंकि उत्तर प्रदेश आज सबसे ज्यादा एक्सप्रेस वे वाला राज्य बन गया है।

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि हमारे जिन किसान भाई-बहनों की भूमि इसमें लगी है,जिन श्रमिकों का पसीना इसमें लगा है,जिन इंजीनियरों का कौशल इसमें लगा है,उनका भी मैं बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं।

हवाई पट्टी की सुविधा है उपलब्ध

जानकारी के लिए बता दें कि पूर्वांचल एक्सप्रेस पर साढ़े तीन किलोमीटर लंबी हवाई पट्टी है,जिसका इस्तेमाल युद्धकाल में आपात स्थिति में किया जा सकता है। लड़ाकू विमान इस हवाई पट्टी पर आसानी से लैंड और टैक ऑफ कर सकते हैं।

पूर्वांचल एक्सप्रेस की प्रमुख बातें-

1) पूर्वांचल एक्सप्रेस की कुल लंबाई 341 किलोमीटर है, इस पूर्वांचल एक्सप्रेस पर साढ़े तीन किलोमीटर हवाई पट्टी का निर्माण किया गया है। इसके चालू होने के बाद अब लखनऊ से गाजीपुर की यात्रा 10 घंटे की जगह सिर्फ साढ़े तीन घंटे में पूरी की जा सकेगी।

2) इस एक्सप्रेस वे को रिकॉर्ड 36 महीने में तैयार किया गया है। इस पर कुल 22 हजार 435 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। इससे उत्तर प्रदेश के 9 जिले जुड़ेंगे।

3) पूर्वांचल एक्सप्रेस वे पर 18 फ्लाईओवर बनाए गए हैं। 7 रेलवे ओवर ब्रिज है और 7 लंबे बुल है। इसके अलावा इसपर 118 छोटे पुल है और 271 अंडर पास हैं।

4) एक्सप्रेस वे से लखनऊ, बाराबंकी,अमेठी,सुल्तानपुर,अयोध्या,अम्बेडकरनगर,आजमगढ़, मऊ और गाजीपुर जिले जुड़ेंगे। इस एक्सप्रेस वे को निकट के 10 किलोमीटर की दूरी तक के गांवों को कनेक्ट किया जा रहा है।

5) यह एक्सप्रेस वे किसानों के लिए भी लाभदायक साबित होगा। साथ ही साथ इसके बनने से राज्य की व्यवसायिक गतिविधियों में तेजी आएगी।

6) पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के लिए वाहनों को 100 किलोमीटर प्रति घंटा से अधिक स्पीड से चलाने की अनुमति दी जाएगी। इस पर एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम लागू किया गया है और साथ ही साथ पशुओं को रोकने के लिए एक्सप्रेस वे के दोनों तरफ फेंसिंग की गई है।

7) एक्सप्रेस वे पर लगातार पेट्रोलिंग की भी व्यवस्था उपलब्ध है। यहां बनने वाली पुलिस चौकियों के साथ हेलिपैड भी बनाया जाएगा। एक्सप्रेस वे पर आठ पेट्रोल पंप की योजना है. चार जगहों पर सीएनजी स्टेशन बनाए जायेंगे इसके लिए बैटरी चार्जिंग के लिए इलेक्ट्रॉनिक सब-स्टेशन की भी योजना है।

8) इस एक्सप्रेस वे के किनारे पर 4.50 लाख वृक्ष लगाए जायेंगे। इसके अलावा हर 500 मीटर पर रेन वॉटर हार्वेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध होगी।

Share