बुखार आने पर इन लक्षणों पर दें ध्यान

बुखार आने पर इन लक्षणों पर दें ध्यान

-तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्रों पर जाकर डॉक्टर से लें परामर्श

–सामान्य और गंभीर लक्षणों को पहचानें

 

 समय भास्कर,फिरोजाबाद।डेंगू के बुखार का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में डेंगू के संक्रमण से बचने के लिए सचेत रहने की जरूरत है। बुखार पर तुरंत ही नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर परामर्श लें।मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. दिनेश कुमार प्रेमी ने बताया कि डेंगू से बचाव के लिए मच्छरों से बचाव करें। अपने आसपास पानी जमा न होने दें। घर में किसी भी वयस्क या बच्चे को बुखार आए तो तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर डॉक्टर को दिखाएं। वहां जाकर दवा लें और डेंगू की जांच कराएं। अपनी मर्जी से कोई दवा न लें। बुखार आने की स्थिति  में केवल पेरासिटामोल दवा दें कोई दर्द निवारक दवा न दें।

सीएमओ ने बताया कि डेंगू बुखार में सामान्य और गंभीर लक्षणों को पहचानने की जरूरत है।उन्होंने बताया कि डेंगू में पेट दर्द,तेज दुखन,लगातार उल्टियां,उल्टी में खून आना, मल के रास्ते से खून आना या मल का काला आना या मसूड़ों से या नाक से खून आने की समस्या होना डेंगू के गंभीर लक्षण हैं। उन्होंने कहा कि डेंगू बुखार में यदि ये लक्षण दिखते हैं तो इसमें समय नष्ट न करें, तुरंत अस्पताल जाएं, जिससे मरीज को तत्काल सही उपचार मिल सके।डीसीपीएम रवि कुमार ने बताया कि सबसे जरूरी है कि डेंगू से बचाव करते रहें। इसके लिए अपने आसपास पानी को जमा न होने दें। मच्छरों को न पनपने दें। शरीर को पूरी तरह ढकने वाले कपड़ों को पहनकर रखें।

डेंगू से करते रहें बचाव
-कूलर, गमले, एसी से निकलने वाले पानी को जमा न होने दें उसे बदलते रहें
–मच्छरों से बचने के लिए मास्क्यूटो क्वाइल की ब्रांड बदलकर इस्तेमाल करें
-पूरे बाजू की शर्ट पहनें, शरीर खुला न रखे
-डेंगू के सामान्य लक्षण
-तेज बुखार होना
-आंखों और सिर में तेज दर्द
-हाथ पैरों, मांसपेशियों, हड्डियों, जोड़ों में तेज दर्द होना
-त्वचा पर लाल चकत्तों का दिखना
-उल्टी होना या जी मिचलाना
डेंगू के गंभीर लक्षण
-पेट दर्द होना
-लगातार उल्टियां होना
-उल्टी में खून आना
-मल में खून आना या मल का काला आना
-मसूड़ों से या नाक से खून आना
-थकावट,चिड़चिड़ापन और बैचेनी होना

Share