पंचायत निर्वाचन ड्यूटी में समस्याओं को लेकर राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने दिया ज्ञापन

पंचायत निर्वाचन ड्यूटी में समस्याओं को लेकर राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने दिया ज्ञापन

मथुरा। त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन में शिक्षकों की ड्यूटी में आ रही समस्याओं के निस्तारण के संबंध में राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ मथुरा के जिलाध्यक्ष मुकेश शर्मा के नेतृत्व में आज आठ सूत्रीय मांगों के निस्तारण को लेकर जिलाधिकारी और मुख्य अधिकारी को ज्ञापन दिया गया।

जिलाधिकारी एवं जिला निर्वाचन अधिकारी और मुख्य विकास अधिकारी एवं कार्मिक प्रभारी को संबोधित ज्ञापन में जिलाध्यक्ष मुकेश शर्मा ने मांग की है कि कोविड 19 के संक्रमण की वर्तमान स्थिति को देखते हुए निर्वाचन पार्टी को पीपीई किट उपलब्ध कराई जाय। चिकित्सा किट में पर्याप्त मात्रा में सेनेटाइजर, हाथ धोने के साबुन उपलब्ध कराए। पति-पत्नी दोनों की निर्वाचन में ड्यूटी लगाई गई है इसमें से किसी एक को ड्यूटी एक को ड्यूटी से मुक्त रखा जाए।

जिलाध्यक्ष ने कहा है कि महिला शिक्षिकाओं की ड्यूटी उनके कार्यरत ब्लॉक से सुदूर ब्लॉक में लगाई गई है। पोलिंग बूथों पर महिलाओं की दृष्टि से रात्रि में ठहरने, दैनिक कार्य से निवृत्त होने एवं नहाने की उचित व्यवस्था न होने कारण उन्हें उनके समीपस्थ ब्लॉक में ड्यूटी लगाई जाय। जिला कोषाध्यक्ष गोविंद सिंह ने मांग की है कि मतदान कर्मियों को उनके पोलिंग पार्टी रवाना होने के स्थान से पोलिंग के पश्चात रात्रि में घर वापस आने हेतु वाहन की व्यवस्था की जाय। कोविड 19 के बढते संक्रमण के दृष्टिगत प्रति घंटे पर सेनेटाइजर की व्यवस्था की जाय।

जिला मीडिया प्रमुख गोवर्धन दास गुप्ता ने कहा है कि विकलांग, गंभीर रूप से पीड़ित,गर्भवती महिला शिक्षिकाओं एवं जिन महिलाओं के बच्चे छोटे हैं उन्हें मानवीय आधार पर निर्वाचन ड्यूटी से मुक्त रखा जाय।संगठन ने मांग की है कि संज्ञान में आया है कि बीआरसी कार्यालय पर असंबद्ध रूप से संबंध कुछ शिक्षकों एवं अन्य स्टाफ की ड्यूटी विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत से जानबूझकर नहीं लगाई गई है। मानव संपदा पोर्टल पर दर्ज रिकार्ड से मिलान करते हुए जांच कर दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही की जाय। जिलाध्यक्ष ने बताया है कि राज्य निर्वाचन आयोग को भी ज्ञापन की प्रति भेज दी गई है।

Share