मानक बोर्ड पर सही विवरण ना होने की खबर से नगर निगम प्रशासन की टूटी नींद

मानक बोर्ड पर सही विवरण ना होने की खबर से नगर निगम प्रशासन की टूटी नींद

-अवर अभियंता को स्पष्टीकरण जारी

-लाखों रुपए से हुए सुधार कार्य में हो सकता है घपला

फिरोजाबाद। एक माह पूर्व वार्ड नंबर-40 नंदराम चौक में करीब 3708707 रूपये की धनराशि से राजाराम मूर्ति से पुलिया तक एवं राजाराम मूर्ति से तिकोनिया तक नाली मरम्मत,साइड पटरी पर इंटर लाकिंग और हॉटमिक्स से सडक़ सुधार कार्य किया गया था। सडक़ सुधार कार्य मानक बोर्ड पर लंबाई चौड़ाई बिना अंकित किए ही कर दिया गया था। समय भास्कर ने इस खबर को प्रमुखता से उठाया था।समय भास्कर में खबर प्रकाशित होने के बाद नगर निगम प्रशासन की नींद टूटी है। अधिशासी अभियंता निर्माण नगर निगम एके.पांडे ने बताया कि इस मामले में संबंधित अवर अभियंता को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया गया है। कि मानक बोर्ड पर लंबाई चौड़ाई का विवरण अंकित क्यो नही किया गया था।

बताते चलें कि नगर निगम को मानक बोर्ड पर लंबाई चौड़ाई का विवरण अंकित करने की याद अब तक नहीं आई है। सड़क पर लगे मानक बोर्ड पर हुए निर्माण कार्य की लंबाई चौड़ाई अब तक गायब है। लाखों रुपए से हुए सुधार कार्य में घपला हो सकता है। निर्माण कार्य श्रीराम कंस्ट्रक्शन के द्वारा किया गया।मानक बोर्ड पर सड़क की लंबाई चौड़ाई को सुहागनगरी की आम जनता से छुपा कर रखा जाता है जिससे कि आमजन को सड़क कितने मीटर बनी है,उसकी लंबाई चौड़ाई कितनी है का पता ना चल सके।सड़क कितने मीटर बनी है।उसकी लंबाई चौड़ाई कितनी है यह तो सिर्फ ठेकेदार और संबंधित अधिकारी को ही पता रहता है।मानक बोर्ड पर निर्माण कार्य की लंबाई चौड़ाई अंकित ना होने के कारण आमजन को सही जानकारी नहीं मिलती।

गौरतलब है कि विभागीय अधिकारियों के बगैर मानक के विपरीत मानक बोर्ड लगाकर ठेकेदार गड़बड़ी नहीं कर सकता। मानक बोर्ड पर सही जानकारी अंकित न करने के खेल में ठेकेदार और नगर निगम के संबंधित अधिकारी दोनों शामिल हैं।नगर निगम के संबंधित अवर अभियंता की मिलीभगत से ठेकेदार मानक बोर्ड पर लंबाई चौड़ाई अंकित नहीं करते। किसी भी निर्माण कार्य के मानक बोर्ड पर उसकी स्वीकृत धनराशि एवं लंबाई चौड़ाई आदि का अंकित होना आवश्यक है। ताकि उस क्षेत्र के बाशिंदों को पता रहे कि कार्य कितना होना है और कितना हुआ है।सुहागनगरी के बाशिंदों का कहना है कि इस पूरे मामले में जांच होनी चाहिए।

वर्जन——

“मानक बोर्ड पर लंबाई चौड़ाई अंकित कराएंगे और सुनिश्चित करेंगे कि आगे से मानक बोर्ड पर अंकित किया जाए। इस मामले में अवर अभियंता को स्पष्टीकरण जारी हुआ है” – ए.के. पांडे,अधिशासी अभियंता निर्माण विभाग,नगर निगम फिरोजाबाद।

 

 

Share