मास्क लगाना,ऐसे लोगों के लिए खतरनाक हो सकता है, जानिए क्यों

0
300

लंदन: पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए मास्क पहनने की सलाह दी जा रही है.कई देशों ने अपने यहां मास्क पहनने को जरूरी कर दिया है.यहां तक कि कुछ देशों में पब्लिक प्लेस मास्क नहीं पहनने पर गिरफ्तारी से लेकर भारी भरकम जुर्माने का प्रावधान है.

लेकिन अब एक्सपर्ट ने बताया है कि कुछ लोगों के लिए मास्क पहनना खतरनाक साबित हो सकता है.ब्रिटेन के एक्सपर्ट ने बताया है कि अस्थमा और लंग्स की बीमारी से जूझ रहे लोगों के लिए मास्क पहनना खतरनाक हो सकता है. ऐसे लोगों को मास्क पहनने की वजह से सांस लेने में तकलीफ हो सकती है.

अब ब्रिटेन के एक्सपर्ट ने कहा है कि अस्थमा के मरीजों को मास्क की वजह से दिक्कत हो सकती है.उन्हें सांस लेने में तकलीफ का सामना करना पड़ सकता है.एक्सपर्ट बता रहे हैं कि सरकार ने कहा है कि जिन्हें सांस लेने में समस्या होती है, उन्हें मास्क पहनने की जरूरत नहीं है.अगर आपको इससे मुश्किल होती है तो आप इसे नहीं पहनें.

ब्रिटेन में घर से बाहर भीड़भाड़ वाली जगहों पर मास्क पहनने को कहा गया है.लेकिन इससे कुछ लोगों को छूट भी दी गई है.2 साल से कम उम्र के बच्चों को इससे बाहर रखा गया है. साथ ही जिन्हें सांस की बीमारी है,उन्हें भी इससे बाहर रखा गया है.

गाइडलाइन में कहा गया है कि अस्थमा,COPD, सिस्टिक फाइब्रोसिस,क्रोनिक ब्रोंकाइटिस और लंग कैंसर के मरीजों को मास्क पहनने में दिक्कत हो सकती है.

एक्सपर्ट बता रहे हैं कि चेहरे पर टाइट मास्क पहनने से सांस लेने में तकलीफ हो सकती है.डॉक्टरों ने बताया है कि यहां तक कि मरीजों का इलाज करते वक्त उन्हें मास्क पहनने में तकलीफ होती है.एक्सपर्ट का कहना है कि गर्मी के दिन हैं. ऐसे में जब आप दिन में बाहर निकलते हैं तो गर्म हवा की वजह से भी सांस लेने में तकलीफ हो सकती है. ये काफी असुविधाजनक होगा.

पिछले हफ्ते ही ब्रिटेन की सरकार ने लोगों सो अपील की थी कि वे लोग मास्क लगाएं.जहां भी 2 मीटर की दूरी वाले सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना संभव नहीं है,वहां मास्क लगाने को अनिवार्य कर दिया गया है. लेकिन अब एक्सपर्ट की राय में अस्थमा और लंग्स की बीमारी वाले मरीजों के लिए ये नियम खतरनाक साबित हो सकता है.

मास्क कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकता है.इसके जरिए ड्रॉपलेट्स के जरिए संक्रमण नहीं फैल सकता. इससे मास्क लगाने वाले का वायरस से बचाव नहीं होता है बल्कि संक्रमित व्यक्ति इसके जरिए दूसरों को संक्रमित नहीं कर सकता.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here