मकर संक्रांति पर्व बढ़ाता है समाज में समरसता का भाव: धर्मेंद्र भारत

मकर संक्रांति पर्व बढ़ाता है समाज में समरसता का भाव: धर्मेंद्र भारत

समय भास्कर,फिरोजाबाद। भारतीय संस्कृति के पर्व समाज में हर्षोल्लास का वातावरण उत्पन्न करते हैं। जिनमें मकर संक्रांति पर्व समाज में समरसता का भी भाव बढ़ाता है।
उक्त वक्तव्य राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ दीनदयाल नगर में मकरसंक्रांति के उपलक्ष्य में खिचड़ी सहभोज का कार्यक्रम में व्यक्त किए। लेबर कॉलोनी के दीनदयाल पार्क में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए सामाजिक समरसता का महत्व समझाया और सभी को जात-पात के भेद मिटाकर संगठित होने की प्रेरणा दी।
उन्होंने मकर संक्रांति पर्व के वैज्ञानिक महत्व पर भी प्रकाश डाला और बताया कि प्रत्येक भारतीय पर्वों का आध्यात्म के साथ-साथ वैज्ञानिक महत्व भी अवश्य तौर पर  होता है।आधुनिक विज्ञान आज विभिन्न ऋतुओं में मानव जीवन के रहन-सहन और खान-पान को लेकर जो सुझाव देता है। उन सभी बातों का ज्ञान हमारे पूर्वजों ने हजारों वर्ष पूर्व ही विभिन्न पर्व,उत्सव के माध्यम से हमें प्रदान किया हुआ है।कार्यक्रम में दीनदयाल नगर के नगर संघचालक प्रशांत,महानगर सह-शारीरिक शिक्षण प्रमुख प्रणव,नगर कार्यवाह नरेंद्र,अन्य स्वयंसेवक बंधु,माताएं व बहनें भी उपस्थित रहे।
Share