लव स्‍टोरी: 50 साल बाद गेटकीपर को मिली ऑस्‍ट्रेलियाई प्रेमिका की चिट्ठी,जाने पूरी कहानी

लव स्‍टोरी: 50 साल बाद गेटकीपर को मिली ऑस्‍ट्रेलियाई प्रेमिका की चिट्ठी,जाने पूरी कहानी

जैसलमेर। सन् 1981 में आई फिल्म ‘प्रेम गीत’ के सुपर हिट गीत की पंक्तियां ‘न उम्र की सीमा का हो न जन्म का हो बंधन,जब प्यार करे कोई तो देखे केवल मन’ जैसलमेर के गेटकीपर और ऑस्ट्रेलियाई प्रेमिका के प्यार पर सटीक बैठती हैं। 81 वर्षीय गेटकीपर को कोई पचास साल बाद उसकी प्रेमिका मरीना की चिट्ठी आई है।अब फोन पर रोज बातें होती हैं और प्रेमिका जल्द भारत आने वाली है।

करीब पांच दशक पुरानी प्यार की यह दास्तां जैसलमेर के गेटकीपर और ऑस्ट्रेलियाई प्रेमिका मरीना की है,तब मरीना पांच दिन के ट्रिप पर जैसलमेर घूमने आई थी।उस समय गेटकीपर तीस साल का बांका जवान था और मरीना को देखते ही उस पर मोहित हो गया था। उसने मरीना को घुमाया और उस दौरान उनमें प्यार के अंकुर फूटे।’ह्यूमन्स ऑफ बाम्बे’ को दिए एक इंटरव्यू में उसने बताया कि ऑस्ट्रेलिया जाते-जाते मरीना ने उसे ‘आई लव यू’ बोला तो वह शर्म से लाल हो गया। मरीना ने उसे ऑस्ट्रेलिया आने का न्यौता भी​ दिया। वह बाद में कर्ज लेकर ऑस्ट्रेलिया भी गया और मरीना के साथ तीन महीने रहा।

इस दौरान मरीना ने उसे अंग्रेजी सिखाई और उसने मरीना को घूमर नृत्य सिखाया।यहीं मरीना ने उसके समक्ष शादी का प्रस्ताव रखा, लेकिन मरीना ऑस्ट्रेलिया नहीं छोड़ना चाहती थी और वह जैसलमेर में अपने परिवार के साथ रहना चाहता था,इसलिए तीन महीने बाद जैसलमेर लौट आया।पारिवारिक दबाव में यहीं शादी कर ली और कुलधरा गांव में नौकरी करने लगा।उसके बच्चे हुए और समय के साथ मरीना की यादें भी धूमिल हो गईं।यही नहीं,बड़ा बेटा अलग हो गया और पत्नी का निधन हो गया।

अब पचास साल बाद मरीना ने उसे ढूंढ निकाला और अचानक उसके पास चिट्ठी आई।उसने जवाब में जज्बात के साथ नंबर भेजा तो अब रोज फोन पर बातें होने लगीं।मरीना ने उसे बताया कि वह जल्द ही भारत और जैसलमेर आएगी।इस बाबत गेटकीपर ने कहा,’मुझे उम्मीद नहीं थी कि मैं फिर कभी मरीना को देख सकूंगा।मैं अब फिर से खुद को युवा महसूस कर रहा हूं।

 

Share