शराब माफिया सुखबीर यादव की एक करोड़ से अधिक की संपत्ति कुर्क

शराब माफिया सुखबीर यादव की एक करोड़ से अधिक की संपत्ति कुर्क

शिकोहाबाद। पुलिस प्रशासन शराब माफियाओं पर कड़ी कार्रवाई कर रहा है। मंगलवार को शराब माफिया सुखबीर यादव पुत्र फेरू सिंह यादव निवासी बिदरखा शिकोहाबाद की करीब एक करोड़ रुपए की संपत्ति को थानाध्यक्ष खैरगढ़ ने मौके पर पहुंचकर जिलाधिकारी के आदेश पर कुर्क कर लिया। अचल संपत्ति और तीन वाहनों को कुर्क करने की कार्रवाई एसडीएम देवेंद्र सिंह,सीओ बलदेव सिंह खनेड़ा की मौजूदगी में की गई। यह कार्यवाही थाना खैरगढ़,मक्खनपुर और शिकोहाबाद ने संयुक्त रूप से की। शराब माफिया पर गैंगस्टर एक्ट 14(1) के तहत कार्रवाई की गई।
शराब माफिया की संपत्ति पर प्रशासन ने कुर्की करने का बोर्ड लगाया है।बुधवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पांडे की मौजूदगी में प्लाट पर मुनादी कराई गई और मकान के दरवाजे पर कुर्की का आदेश अंकित कर संपत्ति सील कर दी गई। शराब माफिया के तीनों प्लॉटों और वाहनों पर अब शासन का कब्जा है। प्रशासन की कार्रवाई से शराब,सट्टा,जुआ व गांजा और चरस के माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है। नशे का कारोबार करने वाले लोगों की आपराधिक कार्य से अर्जित संपत्ति को प्रशासन जब्त करने में जुट गया है। अन्य शराब माफियाओं की संपत्ति की जांच की जा रही है।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय कुमार पांडे ने बयान जारी कर कहा कि गैर प्रांत से शराब लाकर उसमें जहरीले पदार्थ मिलाकर आम जनता के जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा था। इसको गंभीरता से लिया और शराब माफिया को पकड़ने के लिए पुलिस की टीमें बनाई गई। 11 शराब माफियाओं को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। इस पूरे गैंग का सरगना सुखबीर यादव है। जिसकी करीब 1 करोड़ से अधिक संपत्ति को प्रशासन ने कुर्क किया है। इस संपत्ति को कोई बेच और खरीद नहीं सकता। शराब माफियाओं को इस कार्रवाई से सबक लेना चाहिए। सुखबीर सिंह बड़ा गैंगस्टर है,जिस पर दर्जन भर मुकदमा दर्ज है।
उल्लेखनीय है कि थाना क्षेत्र के गांव शेखपुरा में 3 माह पूर्व जहरीली शराब के सेवन से तीन लोगों की मौत हो गई थी। इस मामले में शराब माफिया सुखबीर यादव सहित तीन लोगों पर मुकदमा दर्ज किया था।  पुलिस ने आरोपियों को मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा था। वही फरवरी माह में साढ़े चार कुंटल हाई क्वालिटी गांजा पकड़ा गया था। उड़ीसा के जंगलों में उगाया जा रहा था और फिरोजाबाद के साथ मथुरा में इसकी बड़ी खेप की सप्लाई हो रही थी। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। अंतर्राष्ट्रीय स्मगलर की मदद करने वाले सुहागनगरी में दो दर्जन लोगों के नाम सामने आए थे।
Share