जानें,S-400 एयर मिसाइल सिस्टम क्या है

जानें,S-400 एयर मिसाइल सिस्टम क्या है

-S-400 मिसाइल सिस्टम देगा भारतीय सेना को नई ताकत

नई दिल्ली। भारतीय सेना ने अपने हर दुश्मन को तहस-नहस करने की पॉलिसी बनाए रखी है। इसके लिए सेना में नए हथियार शामिल किए जा रहे हैं।अब चीन को डर है कि अब भारत को रूस से मिलने वाला S-400 मिसाइल सिस्टम भारतीय सेना को शत्रु संहार की नई ताकत देगा।अब भारत की तरफ आंख उठाकर देखने वालों की खैर नहीं क्योंकि अब भारत जमीन की लड़ाई भी आसमान से ही लड़ेगा। S-400 को जमीन पर तैनात एक ऐसी आर्मी भी कह सकते हैं जो पलक झपकते ही सैकड़ों फीट ऊपर आसमान में दुश्मनों की कब्र खोद सकती है। S-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम तीन तरह के अलग-अलग मिसाइल दाग सकता है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच S-400 एयर डिफेंस सिस्टम पर डील हुई थी।इसके तहत रूस करीब 5 अरब डॉलर यानी 40 हज़ार करोड़ रुपए में S-400 डिफेंस सिस्टम की पांच रेजिमेंट्स भारत को बेचेगा। S-400 के मिलते ही भारतीय वायु सेना काफी मजबूत हो जाएगी।

एरियल टार्गेट को पलक झपकते ही हवा में नष्ट कर सकता
ये कम दूरी से लेकर लंबी दूरी तक मंडरा रहे किसी भी एरियल टार्गेट को पलक झपकते ही हवा में नष्ट कर सकता है। इतना ही नहीं,आसमान में फुटबॉल के आकार की भी कोई चीज अगर मंडराती हुई दिखाई देगी,तो ये मिसाइल सिस्टम उसे डिटेक्ट करके नष्ट कर सकता है।ये मिसाइल सिस्टम पहले अपने टार्गेट को स्पॉट करता है।फिर उसे पहचानता है,पहचान हो जाने के बाद मिसाइल सिस्टम उसे मॉनिटर करना शुरू कर देता है और उसकी लोकेशन ट्रैक करता है। S-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम,400 किलोमीटर तक की रेंज में आने वाले दुश्मन के एयरक्राफ्ट,फाइटर जेट्स,स्टील्थ प्लेन,मिसाइल और ड्रोन को भी मार गिराने की क्षमता रखता है।

आधुनिकतम वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली S-400 ‘ट्रायम्फ़ (Triumf) के बारे में-

S-400 प्रणाली को रूस ने चीन को सप्लाई भी शुरू कर दी है और यह टर्की और भारत को बेचने के समझौते कर चुका है।S-400 वर्तमान में दुनिया की सबसे उन्नत वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली है जो कि एक साथ कई हमला करने वाली वस्तुओं जैसे सभी प्रकार के विमान, मिसाइल और ड्रोन को 400 किमी की रेंज तक पता लगाकर खत्म कर सकता है।

S-400; वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली की विशेषताएं इस प्रकार हैं।

1. S-400 प्रणाली S-300 का उन्नत संस्करण है।

2. S-400 लगभग 10,000 फीट (30 किमी) की ऊंचाई तक निशाना साध सकता है।

3. इसकी तैनाती में केवल 5 से 10 मिनट का समय लगता है।

 

4. यह डिफेंस सिस्टम एक साथ 36 मिसाइलों को मार गिराने में सक्षम है।

5. इस प्रणाली में एक साथ तीन मिसाइलें दागी जा सकती हैं और इसके प्रत्येक चरण में 72 मिसाइलें शामिल हैं।

6. S-400 को सतह से हवा में मार करने वाला दुनिया का सबसे सक्षम मिसाइल सिस्टम माना जाता है।

7. यह सिस्टम इतनी उन्नत है कि 400 किमी. की रेंज में आने वाली मिसाइलों एवं पाँचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमानों को नष्ट कर सकता है। इसमें अमेरिका के सबसे उन्नत फाइटर जेट F-35, F-16 और F-22 को भी गिराने की क्षमता है।

8. S-400 प्रणाली से विमानों सहित क्रूज और बैलिस्टिक मिसाइलों तथा ज़मीनी लक्ष्यों को भी निशाना बनाया जा सकता है।

9. मिसाइल सिस्टम की अधिकतम रफ्तार 4.8 किलोमीटर प्रति सेकंड तक है जबकि इसके नवीनतम संस्करण में यह हाइपरसोनिक गति से हमला कर सकती है।

S-400 रक्षा मिसाइल प्रणाली का भारत के लिए महत्व-

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि चीन इस रक्षा प्रणाली को रूस से हासिल कर चुका है। भारत लगभग 4000 किलोमीटर लंबी भारत- चीन सीमा पर अपनी वायु रक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए लंबी दूरी की मिसाइल प्रणालियां खरीदना चाहता है।

S-400 ट्रियंफ एंटी मिसाइल सिस्टम से भारत को एक ऐसा कवच मिल जाएगा जो किसी भी मिसाइल हमले को नाकाम कर सकता है।इस सिस्टम से भारत पर होने वाले परमाणु हमले का भी जवाब दिया जा सकेगा।अर्थात यह डिफेंस सिस्टम भारत के लिए चीन और पाकिस्तान की न्यूक्लियर सक्षम बैलिस्टिक मिसाइलों से कवच की तरह काम करेगा। यहाँ तक कि यह सिस्टम पाकिस्तान की सीमा में उड़ रहे विमानों को भी ट्रैक कर सकेगा।

Share