जानिए,कितना घातक है MQ-9 रीपर ड्रोन

जानिए,कितना घातक है MQ-9 रीपर ड्रोन

MQ-9 रीपर ड्रोन। यह बेहद उन्नत किस्म का टोही और लक्ष्यभेदी ड्रोन है। इस ड्रोन की खास बात यह है कि यह जासूसी में जितना माहिर है, उतना ही खतरनाक हवाई हमले करने में भी है।एक ड्रोन की लागत 64.2 मिलियन यानी छह करोड़ 42 लाख रुपये है। MQ-9 रीपर ड्रोन भारत ने अमेरिका से खरीदे हैं,जल्द ही भारत आएंगे।

जासूसी में भी माहिर है MQ-9 रीपर ड्रोन

बगदाद में जिस ड्रोन अटैक को अंजाम दिया गया, वह लक्ष्य की खुफिया जानकारी जुटाता है और फिर उसे खत्म करने के लिए हमले भी करने में सक्षम है। यानी, यह ड्रोन तलाश और विध्वंस का दोहरा काम करने में माहिर है। हथियारों से लैस, मध्यम ऊंचाई तक पहुंचाने वाला,एक साथ कई अभियानों को अंजाम देने और लंबी देर तक हवा में रहने में सक्षम ड्रोन है। अमेरिकी वायुसेना 2007 से इसका इस्तेमाल कर रही है।

ड्रोन के नाम का मतलब
अमेरिका ने MQ-9 रीपर ड्रोन को विदेशी सैन्य अभियानों की मदद के मकसद से विकसित किया। इसमें M अमेरिकी रक्षा विभाग के मल्टि-रोल डेजिग्नेशन का प्रतिनिधित्व करता है जबकि Q का मतलब दूर से संचालित एयरक्राफ्ट है। वहीं,9 का मतलब है कि यह अपनी तरह के एयरक्राफ्ट का 9वीं सीरीज है। 2,222 किलो वजनी यह ड्रोन छोटी-छोटी गतिविधियों का भी पता लगा लेता है और बेहद कम समय में लक्ष्य को निशाना बना लेता है।

कितना घातक है यह ड्रोन
इस ड्रोन में कई बेहद घातक हथियार लगे होते हैं। इनमें लेजर से निर्देशित होने वाले हवा से जमीन पर मार करने वाले चार AGM-114 हेलफायर मिसाइल भी शामिल हैं। ये मिसाइल बिल्कुल लक्ष्य पर निशाना साधते हैं जिससे कि आसपास कम-से-कम नुकसान हो। साथ ही, इसमें टारगेटिंग सिस्टम लगा है जिसमें विजुअल सेंसर्स लगे हैं। इसमें 1,701 किलो वजन तक का बम गिराने की क्षमता है।

कैसे भरता है उड़ान
MQ-9 रीपर चूंकि मानवरहित छोटा विमान है, इसलिए इसके अंदर कोई पायलट या क्रू नहीं होता है। इसे दूर से ही संचालित किया जाता है। हर MQ-9 रीपर ड्रोन के लिए एक पायलट और एक सेंसर ऑपरेटर सुनिश्चित होते हैं। यह अपने साथ अधिकतम 4,760 किलो का वजन लेकर उड़ सकता है।

उड़ान क्षमता
यह ड्रोन 230 मील (368 किलोमीटर) प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ता है। MQ-9 रीपर अधिकतम 50 हजार फीट तक की ऊंचाई तक पहुंच सकता है।
इसमें एक बार में 2,200 लीटर फ्यूल भरा जा सकता है जिससे यह 1,150 मील यानी 1,851 किलो मीटर तक की दूरी तय कर सकता है।

MQ ड्रोन की 9वीं सीरीज
सितंबर 2015 तक अमेरिकी एयरफोर्स के पास ऐसे 93 MQ-9 रीपर ड्रोन थे। इससे पहले अमेरिकी वायुसेना के बेड़े में MQ-1 प्रीडेटर ड्रोन हुआ करता था जिसकी क्षमता MQ-9 रीपर से कम होती थी। इसके एक पंख से दूसरे पंख तक की लंबाई 66 फीट है। इसके आगे से पीछे तक की लंबाई 36 फीट है। वहीं, पिछले हिस्से की चौड़ाई 12.5 फीट है।MQ-9 रीपर ड्रोन को जनरल एटमिक्स एरोनॉटिकल सिस्टम्स इंक ने बनाया है।इस ड्रोन का एम शब्द अमेरिका के रक्षा मंत्रालय के कई कामों में महारत को दर्शाता है। क्यू का मतलब रिमोट द्वारा नियंत्रित एयरक्राफ्ट (ड्रोन) है। वहीं 9 अंक का मतलब रिमोट द्वारा नियंत्रित एयरक्राफ्ट का नौंवा संस्करण है।

जानें मिसाइल और कैमरे से लैस इस ड्रोन की क्या हैं खासियतें

यह ड्रोन रेकी करने या हवाई हमले करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
यह चलित लक्ष्यों (मूवेबल टारगेट) पर हमला कर सकता है।
एमक्यू-9 रीपर ड्रोन में एक टारगेटिंग सिस्टम लगा हुआ है जिसमें विजुअल सेंसर मौजूद है।
यह ड्रोन हथियारों के साथ चार लेजर गाइडेड एयर टू ग्राउंड हेलफायर मिसाइलों से लैस है। जो सटीक निशाना लगाता है और आस-पास बहुत कम क्षति करता है।

यह 50,000 की फीट पर उड़ान भरने में सक्षम है।
ड्रोन में 2,200 लीटर ईंधन ले जाने की क्षमता है।
ड्रोन की गति 230 किलोमीटर प्रतिघंटा है।
यह अपने साथ 1,701 किलो का पेलोड ले जा सकता है।
इसकी रेंज 1,150 मील है।

Share