Samay का सदुपयोग kaise kare । samay ka use kaise kare

samay bhaskar logo

वह व्यक्ति जो समय के महत्व को समझता है वही इसका सही उपयोग कर प्रगति के पथ पर अग्रसर रहता है । परंतु दूसरी तरफ वे लोग जो समय की महत्ता की अनदेखी करते हैं अथवा समय का दुरुपयोग करते हैं वे जीवन पर्यत असफलता ही पाते हैं । मनुष्य के जीवन में समय की महत्वपूर्ण भूमिका है ।

समय उन्हें पतन की ओर धकेल देता है । अत: मनुष्य की सफलता और समय का सदुपयोग दोनों ही एक-दूसरे के पूरक हैं प्रसिद्‌ध उक्ति है:

प्रतिस्पर्धा के आधुनिक युग में तो समय की महत्ता और भी बढ़ गई है । आज समय गँवाने का अर्थ है प्रगति की राह में स्वयं को पीछे धकेलना । प्रत्येक क्षण महत्वपूर्ण है क्योंकि जो पल एक बार गुजर जाते हैं वे कभी भी वापिस नहीं लौटते ।

सफलता के लिए यदि व्यक्ति समय रहते प्रयास नहीं करता तो वह जीवन पर्यंत ठोकरें खाता रहता है और उसकी सफलता मृगतृष्णा की भांति उससे मीलों दूर रहती है । अत: यह आवश्यक है कि यदि संसार में हम एक अच्छा और सफल जीवन व्यतीत करना चाहते हैं तो हम समय के महत्व को समझें और हर क्षण को उसकी पूर्णता के साथ जिएँ ।

समय को यदि हम और विस्तृत रूप में समझें तो कह सकते हैं कि समय ही विश्व का निर्माता और विनाशक है । यह सदैव गतिमान है । किसी विशेष व्यक्ति के लिए यह कभी नहीं रुकता है । उसकी यह शाश्वत प्रकृति इस सृष्टि के आदि से है और भविष्य में शाश्वत बनी रहेगी ।

कितने ही महापुरुष महामानव होते चले गए परंतु समय फिर भी चलता रहा वह कभी नहीं रुका । जो लोग समय के साथ चलते हैं वे जीवन में अपने पदचिहन छोड़ जाते हैं और समूचा विश्व उनका अनुकरण करता है । परंतु वे सभी लोग जो समय के महत्व को नहीं समझ सके अथवा समय के साथ न चल सके वे लुप्त हो गए ।

विद्यार्थी जीवन में समय की उपयोगिता तो और भी बढ़ जाती है क्योंकि यह वह समय है जब मनुष्य के चरित्र का निर्माण होता है । इस अवस्था में यदि वह समय के महत्व को नहीं समझ पाता तो आगे उसे उसके महत्व को आत्मसात् करने में बहुत कठिनाई होती है ।

वे सभी छात्र-छात्राएँ जो विद्‌यार्थी जीवन में समय के महत्व को समझते हुए इसका पूर्ण रूप से उपयोग करते हैं तथा लगन और परिश्रमपूर्वक शिक्षा ग्रहण करते हैं वे ही बड़े होकर ऊँचे व महत्वपूर्ण पदों पर पदासीन होते हैं । परंतु वे विद्‌यार्थीगण जो केवल खेल व कुसंगति में अपना समय नष्ट करते हैं वे जीवन पर्यत अपनी छोटी-छोटी जरूरतों के लिए भी जूझते रहते हैं ।

जीवन में समय के सदुपयोग के लिए इसके महत्व को समझने के अतिरिक्त यह भी आवश्यक है कि हम अपने कार्य की प्राथमिकताओं के आधार पर अपने समय को बुद्धिमत्ता से विभाजित कर लें ताकि कार्य की महत्ता के अनुसार हम अपने सभी कार्यो को उचित समय दे सकें ।

निरंतर कार्य भी हमें शारीरिक व मानसिक रूप से थका देता है इसलिए यह आवश्यक है कि उचित अंतराल के बाद हम विश्राम लेते रहें तथा मनोरंजन आदि के लिए भी समय निकालें जिससे हम पुन: स्कूर्तिवान हो सकें। गाँधी जी अपने मिनट-मिनट के समय का हिसाब रखते थे, साथ-साथ वे कुछ समय आराम के लिए भी निकाल रखते थे । अत: उचित आराम को समय का दुरुपयोग नहीं कहा जा सकता ।

आज आधुनिक दौर में व्यक्ति प्रगति की राह पर इतनी तेज गति से चल रहा है कि समय को बाँधकर रखना नितांत आवश्यक है अर्थात् यह आवश्यक है कि समय रहते हम अपने कार्य को तुरंत पूर्णता प्रदान करें । ‘समय गया बात गई’ यह लोकोक्ति हमें संदेश देती है कि महत्ता समय की ही है ।

समय रहते कार्य न किया गया तो बात नहीं बन सकती है । इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को समय की महत्ता समझते हुए ही कार्य करना चाहिए क्योंकि जो व्यक्ति समय को महत्व नहीं देता है समय (काल) भी उसे महत्वहीन कर देता है । जीवन का यही कटु सत्य है ।