‘विश्व दाता सूचकांक’ में भारत ने लगाई 68 पायदान की छलांग

‘विश्व दाता सूचकांक’ में भारत ने लगाई 68 पायदान की छलांग

नई दिल्ली। कोविड महामारी के प्रकोप से विश्व को बचाने के लिए भारत ने ‘वैक्सीन मैत्री’ पहल के तहत कई देशों की मदद की थी। इन्हीं वजहों से इस वर्ष की ‘वर्ल्ड गिविंग इंडेक्स’ (विश्व दाता सूचकांक) की रिपोर्ट के अनुसार भारत को दुनिया का 14 वां सर्वाधिक परोपकारी देश बताया गया है। यह रिपोर्ट चैरिटीज एड फाउंडेशन- सीएएफ के द्वारा जारी की गई है। महामारी के दौरान दुनियाभर में विभिन्न समुदायों ने साथी नागरिकों के लिए मदद जुटाई। इसी के परिणामस्वरूप इस वर्ष 2009 के बाद अपरिचितों की सहायता का आंकड़ा भी सर्वाधिक रहा।

इंडोनेशिया पहले एवं केन्या दूसरे स्थान पर

पिछले वर्ष भारत इस सूची में 82वें स्थान पर था,लेकिन अब भारत 68 रैंक की छलांग के साथ विश्व के शीर्ष 20 उदार देशों में शामिल हो गया है। यह भारत के लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। जहां इंडोनेशिया इस रैंकिंग में पहले स्थान पर रहा वहीं केन्या को दूसरा स्थान प्राप्त हुआ। इस बार अफ्रीका के चार देश शीर्ष दस उदार देशों में शामिल हुए। इनके अलावा,आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने शीर्ष दस में अपनी जगह बनाए रखी। इस रिपोर्ट में कोविड-19 महामारी के दौरान किए गए दान कार्यों का भी उल्लेख है। इस वर्ष के सर्वेक्षण में दान और परोपकारी गतिविधियों पर लॉकडाउन के प्रभावों के बारे में भी बताया गया है।

इस वर्ष 61 प्रतिशत भारतीयों ने की अपरिचितों की सहायता

इस रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2020 में दुनिया के लगभग तीन अरब व्यस्क लोगों ने किसी न किसी ऐसे व्यक्ति की मदद की,जिसे वह जानते भी नहीं थे। इस रिपोर्ट के अनुसार भारत में 2017-2019 के बीच दान और परोपकारी गतिविधियों में काफी वृद्धि हुई और वर्ष 2020 में भी कई भारतीय दूसरों की सहायता में संलग्न थे। भारत में सभी आयु वर्ग के लोगों ने इस वर्ष खुल कर दान किया। आंकड़ों के अनुसार,61 प्रतिशत भारतीयों ने अपरिचितों की सहायता की। जहां 34 प्रतिशत लोग मदद के लिए खुद आगे आए,वहीं 36 प्रतिशत लोगों ने आर्थिक रूप से सहायता की।

चैरिटीज एड फाउंडेशन 2009 से कर रही है यह सर्वेक्षण

इस वैश्विक सर्वेक्षण में, लोगों से मुख्य रूप से तीन प्रश्न पूछे गए:
1) क्या उन्होंने किसी अजनबी की मदद की है?
2) क्या किसी अजनबी की आर्थिक सहायता की है?
3) क्या उन्होंने किसी अच्छे कारण के लिए स्वेच्छा से काम किया है?

चैरिटीज एड फाउंडेशन ब्रिटेन की एक संस्था है,जो हर वर्ष यह विश्व के लगभग 140 देशों की रैंकिंग जारी करती है। 2009 से यह इस संबंध में लगभग 16 लाख लोगों का साक्षात्कार कर चुकी है।

भारत का प्रदर्शन काबिले तारीफ: मीनाक्षी बत्रा

सीएएफ इंडिया की मुख्य कार्यकारी मीनाक्षी बत्रा ने सूचकांक पर भारत के प्रदर्शन पर कहा,”यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है जब भारत एक गंभीर समस्या से गुजर रहा है। ऐसे समय में भारत का सूचकांक में अच्छा प्रदर्शन काबिले तारीफ है। यह देखकर मन में एक उम्मीद जगती है कि लोग उदारतापूर्वक विभिन्न कारणों विशेष रूप से कोविड राहत के लिए अपने धन और समय का योगदान दे रहे हैं।”

Share