Home Health & Fitness इस चीज का प्रयोग किया तो,कभी हार्ट अटैक से नही मरोंगे

इस चीज का प्रयोग किया तो,कभी हार्ट अटैक से नही मरोंगे

अगर आप साल मे प्रतिदिन आधा चम्मच अर्जुन की छाल (arjun kee chhaal)का प्रयोग 90 दिन सर्दियों में कर ले तो कभी हार्ट अटैक (heart attack) से नही मरेंगे। अर्जुन की छाल हृदय रोगों (heart diseases)की सबसे बडी दवाई (medicine) है औ हमारे हृदय को स्वस्थ रखती है। यह काफी गर्म होती है,इसका प्रयोग सावधानी पूर्वक कम मात्रा में करना चाहिए। इसको चाय में डालकर तथा गर्म दूध के साथ लेना बेहतर होता है। हृदय रोगों में अर्जुन की छाल के कपड़छन चूर्ण का प्रभाव इन्जेक्शन से भी अधिक होता है।

जीभ पर रखकर चूसते ही रोग कम होने लगता है। हृदय की धडक़न बढ़ जाने पर, नाड़ी की गति बहुत कमजोर हो जाने पर इसको रोगी की जीभ पर रखने मात्र से नाड़ी में तुंत शक्ति प्रतीत होने लगती है। इस दवा का लाभ स्थायी होता है और यह दवा किसी प्रकार की हानि नहीं पहुंचाती तथा एलोपैथिक की प्रसिद्ध दवा डिजीटेलिस से भी अधिक लाभप्रद है। यह उच्च रक्तचाप में भी लाभप्रद है। उच्च रक्तचाप के कारण यदि हृदय में शोथ (सूजन) उत्पन्न हो गयी हो तो उसको भी दूर करता है।अर्जुन की छाल के फायदे हृदय रोग में सबसे ज्यादा होते हैं, लेकिन इसके लिए ज़रूरी है कि अर्जुन की छाल का प्रयोग कैसे करें इसके बारे में सही जानकारी होनी चाहिए-

हृदय की सामान्य धडक़न जब 72 से बढक़र 150 से ऊपर रहने लगे तो एक गिलास टमाटर के रस में 1 चम्मच अर्जुन की छाल का चूर्ण मिलाकर नियमित सेवन करने से शीघ्र ही लाभ होता है।

अर्जुन छाल के 1 चम्मच महीन चूर्ण को मलाई रहित 1 कप दूध के साथ सुबह-शाम नियमित सेवन करते रहने से हृदय के समस्त रोगों में लाभ मिलता है, हृदय को बल मिलता है और कमजोरी दूर होती है। इससे हृदय की बढ़ी हुई धडक़न सामान्य होती है।

50 ग्राम गेहूँ के आटे को 20 ग्राम गाय के घी में भून लें, गुलाबी हो जाने पर 3 ग्राम अर्जुन की छाल का चूर्ण और 40 ग्राम मिश्री तथा 100 मिली खौलता हुआ जल डालकर पकाएं, जब हलुवा तैयार हो जाए तब प्रात सेवन करें। इसका नित्य सेवन करने से हृदय की पीड़ा, घबराहट, धडक़न बढ़ जाना आदि विकारों में लाभ होता है।

6-10 ग्राम अर्जुन छाल चूर्ण में स्वादानुसार गुड़ मिलाकर 200 मिली दूध के साथ पकाकर छानकर पिलाने से हृद्शोथ का शमन होता है।

50 मिली अर्जुन छाल रस, (यदि गीली छाल न मिले तो 50 ग्राम सूखी छाल लेकर, 4 ली जल में पकाएं। जब चौथाई शेष रह जाए तो क्वाथ को छान लें), 50 ग्राम गोघृत तथा 50 ग्राम अर्जुन छाल कल्क में दुग्धादि द्रव पदार्थ को मिलाकर मन्द अग्नि पर पका लें। घृत मात्र शेष रह जाने पर ठंडा कर छान लें। अब इसमें 50 ग्राम शहद और 75 ग्राम मिश्री मिलाकर कांच या चीनी मिट्टी के पात्र में रखें। इस घी को 5 ग्राम प्रात सायं गोदुग्ध के साथ सेवन करें। इसके सेवन से हृद्विकारों का शमन होता है तथा हृदय को बल मिलता है।

नोट: अर्जुन की छाल का प्रयोग करने से पहले वैध से सलाह जरूर ले ले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अधर्म पर धर्म की विजय होती है -पं0 ऋषिकेश शास्त्री

आगरा। विष्णु सहस्त्रनाम 11 कुण्डलीय महायज्ञ सेवा समिति की ओर से मानस नगर स्थित मानस मंदिर पर चल रहे 11 कुण्डीय श्री विष्णु सस्त्रनाम...

4 साल के बच्चे पर एफआईआर, जाने पूरा मामला ?

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की गांधीनगर पुलिस की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है. इलाके के दो परिवारों का विवाद हुआ था,जिसके...

दिल्ली हिंसा: शांति मार्च में बोले कपिल मिश्रा,केजरीवाल अंकित शर्मा के घर भी जाएं

नई दिल्ली: शनिवार को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा के खिलाफ जंतर-मंतर पर शांति मार्च  का आयोजन किया गया. इस हिंसा में 42...

आगरा को मिला आयुर्वेद का मेडिकल कॉलेज

आगरा। ग्वालियर रोड स्थित शिवांगी जन कल्याण समिति द्वारा संचालित एसआरएस आयुर्वेदिक मेडीकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल का लोकार्पण शुक्रवार को विहिप संरक्षक दिनेश चंद्र...

Recent Comments