‘मेक इन इंडिया,मेक फॉर द वर्ल्ड’ के संकल्प के साथ गुजरात करेगा डिफेंस एक्सपो-2022 की मेजबानी

 ‘मेक इन इंडिया,मेक फॉर द वर्ल्ड’ के संकल्प के साथ गुजरात करेगा डिफेंस एक्सपो-2022 की मेजबानी

गुजरात। भारतीय रक्षा मंत्रालय का द्विवार्षिक कार्यक्रम डिफेंस एक्सपो का 12वां संस्करण गुजरात के गांधीनगर में 10-13 मार्च, 2022 को होगा। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की उपस्थिति में गुरुवार को केवड़िया में इस आयोजन के लिए रक्षा मंत्रालय और गुजरात सरकार के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। रक्षा मंत्री और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने संयुक्त रूप से रक्षा प्रदर्शनी डिफेंस एक्सपो-2022 की तैयारियों की समीक्षा की।

डिफेन्स एक्सपो का 12वां संस्करण गुजरात में

इससे पहले फरवरी 2020 में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में डिफेंस एक्सपो का पिछला संस्करण आयोजित किया गया था,जो भारत सरकार और राज्य सरकार के बीच सहज संयुक्तता के कारण एक जबरदस्त सफलता थी।अब डिफेंस एक्सपो का 12वां संस्करण स्वतंत्रता के 75वें वर्ष के मौके पर ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के रूप में मनाया जायेगा,जिसमें सभी स्तरों पर अधिक सक्रिय भागीदारी और समन्वित प्रयासों की आवश्यकता है। चल रही तैयारियों पर संतोष व्यक्त करते हुए रक्षा मंत्री ने सभी हितधारकों से आगामी कार्यक्रम में अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित करने का आग्रह किया।

मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड’

उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि पिछले संस्करण की तुलना में डिफेंस एक्सपो-2022 में न केवल घरेलू बल्कि अंतरराष्ट्रीय प्रतिनिधित्व बहुत अधिक होगा। ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड’ के सरकार के संकल्प को दोहराते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विश्वास व्यक्त किया कि भारत जल्द ही एक वैश्विक विनिर्माण केंद्र बन जाएगा।

रक्षा मंत्री ने कहा कि हम पीएम मोदी की कल्पना के अनुसार ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में बड़ा कदम उठा रहे हैं। हम जल्द ही रक्षा में आत्मनिर्भरता हासिल करेंगे। हमारा उद्देश्य आयात पर निर्भरता कम करना और रक्षा निर्यात बढ़ाना है। यह एक हाइब्रिड बिजनेस इवेंट होगा,जिसमें साबरमती रिवर फ्रंट पर हथियारों और रक्षा प्लेटफार्मों के लाइव प्रदर्शन की भी योजना बनाई जा रही है।

डिफेंस एक्सपो-2022 का उद्देश्य

रक्षा प्रदर्शनी-2022 का उद्देश्य रक्षा के क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने और 2024 तक पांच बिलियन अमेरिकी डॉलर के रक्षा निर्यात का लक्ष्य पाने के लिए माहौल का निर्माण करना है। इसका उद्देश्य भारत को भूमि, नौसेना, वायु, रक्षा इंजीनियरिंग और सुरक्षा प्रणालियों का एक प्रमुख गंतव्य बनाना है। भविष्य के युद्ध को ध्यान में रखते हुए इस आयोजन का उद्देश्य संघर्षों पर विघटनकारी प्रौद्योगिकियों के प्रभाव और आवश्यक उपकरणों और प्लेटफार्मों पर इसके परिणामी प्रभाव को पहचानना भी है। गुजरात सरकार का लक्ष्य अपने एयरोस्पेस को आगे बढ़ाने और विदेशी निवेश की तलाश करने के अवसर का उपयोग करना है।

2020 डिफेंस एक्सपो की उपलब्धियां

डिफेंस एक्सपो-2020 में 75 हजार वर्ग मीटर से अधिक स्थान पर प्रदर्शनी लगाई गई थी, जिसमें 1,000 से अधिक प्रदर्शकों ने भागीदारी की थी। इस कार्यक्रम में 40 विभिन्न देशों के रक्षा मंत्रियों की उपस्थिति के साथ 70 देश शामिल हुए थे। इस दौरान 200 साझेदारियां बनाई गईं,जिससे उत्तर प्रदेश रक्षा औद्योगिक गलियारे को जबरदस्त बढ़ावा मिला। 12 लाख से अधिक लोगों ने इस कार्यक्रम का दौरा किया था,जिसमें अद्वितीय टेंट सिटी आवास एक अन्य विशेषता रही।

इसके बाद फरवरी, 2021 में सख्त कोरोना प्रोटोकॉल में बेंगलुरु में एक हाइब्रिड एयरोस्पेस प्रदर्शनी एयरो इंडिया-2021 आयोजित करने वाला भारत पहला देश था। रक्षा मंत्रालय के रक्षा उत्पादन विभाग की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में जबरदस्त वैश्विक प्रतिक्रिया देखी गई थी।

Share