बेटियों की शादी के लिए सही उम्र तय करेगी सरकार: पीएम मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देश की बेटियों को भरोसा दिलाया कि सरकार संबंधित समिति को अपनी रिपोर्ट देते ही सरकार लड़कियों के लिए शादी के लिए सही उम्र तय करेगी। पीएम मोदी ने कहा कि “हमारी बेटियों की शादी के लिए सही उम्र तय करने के लिए चर्चा चल रही है। देश भर से बेटियों ने मुझसे पूछा है कि संबंधित समिति ने अभी तक अपना फैसला क्यों नहीं दिया है? पीएम मोदी ने कहा मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि जैसे ही रिपोर्ट आती है, सरकार इस पर कार्रवाई करेंगी।

“हम अपनी बेटियों की भलाई के लिए उचित कदम उठा रहे हैं”- प्रधानमंत्री मोदी ने खाद्य और कृषि संगठन के साथ भारत के लंबे समय से संबंध की 75 वीं वर्षगांठ को चिह्नित करने के लिए den 75 संप्रदाय का एक स्मारक सिक्का जारी करने संबंधी कार्यक्रम में कही। उन्होंने महिलाओं के स्वास्थ्य और स्वच्छता के रखरखाव की दिशा में उनकी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा, “हम अपनी बेटियों की भलाई के लिए उचित कदम उठा रहे हैं। जल जीवन मिशन के माध्यम से, हर घर में पानी पहुंचाने के लिए काम चल रहा है। हम प्रत्येक 1 के लिए सैनिटरी पैड उपलब्ध करा रहे हैं।

कानूनी विवाह की उम्र पर पुनर्विचार करने के लिए गठित की थी टास्‍क फोर्स बता दें सरकार महिलाओं के लिए कानूनी विवाह की उम्र पर पुनर्विचार कर रही है, जो वर्तमान में 18 वर्ष है। केंद्र सरकार ने 22 सितंबर को कहा था कि विवाह और मातृत्व की उम्र के सहसंबंध की जांच के लिए एक टास्क फोर्स का गठन किया गया है।

महत्वपूर्ण पैरामीटर पर आंकलन किया जा रहा है- केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने पिछले संसद सत्र के दौरान राज्यसभा सांसद सुशील कुमार गुप्ता को एक लिखित जवाब में कहा था “गर्भावस्था, जन्म और उसके बाद स्वास्थ्य, चिकित्सा भलाई और माँ और नवजात / शिशु / बच्चे की पोषण स्थिति के साथ विवाह और मातृत्व की उम्र के सहसंबंध की जांच के लिए इस टास्क फोर्स का गठन किया गया है। जिसमें शिशु मृत्यु दर, मातृत्‍व मृत्यु दर, कुल प्रजनन दर, जन्म के समय लिंग अनुपात, बाल लिंग अनुपात इस संदर्भ में स्वास्थ्य और पोषण से संबंधित किसी भी अन्य प्रासंगिक बिंदु जैसे महत्वपूर्ण पैरामीटर पर आंकलन किया जा रहा है। एजेंसी