भारत सरकार का 17 नवम्बर से करतार सिंह साहिब कॉरिडोर को खोलने का ऐलान

भारत सरकार का 17 नवम्बर से करतार सिंह साहिब कॉरिडोर को खोलने का ऐलान

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने करतार सिंह साहिब कॉरिडोर को बुधवार 17 नवम्बर से खोलने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि इस महत्वपूर्ण फैसले से बड़ी संख्या में सिख तीर्थयात्रियों को फायदा होगा।

गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा कि देश 19 नवंबर को गुरु नानक देव जी का प्रकाश उत्सव मनाने के लिए पूरी तरह तैयार है। मुझे विश्वास है कि पीएम मोदी के करतारपुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोलने के सरकार के फैसले से पूरे देश को खुशी होगी। इस महत्वपूर्ण फैसले से बड़ी संख्या में सिख तीर्थयात्रियों को फायदा होगा ।

केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने 17 नवंबर से करतारपुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोलने का फैसला किया है। यह निर्णय श्री गुरु नानक देव जी और हमारे सिख समुदाय के प्रति मोदी सरकार की अपार श्रद्धा को दर्शाता है। गौरतलब है कि मार्च 2020 में कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए कॉरिडोर को बंद कर दिया गया था।

हाल ही में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने भी गृह मंत्री से मुलाकात कर करतारपुर कॉरिडोर खोलने की मांग की थी। यही नहीं शिरोमणि अकाली दल नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने भी पीएम मोदी को पत्र लिखकर यही मांग की थी। नवजोत सिंह सिद्धू भी करतारपुर कॉरिडोर खोलने की मांग उठाते रहे हैं।

पाकिस्तान में मौजूद यह गुरुद्वारा सिखों और दूसरे पंजाबियों के लिए बहुत महत्व रखता है क्योंकि सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने अपनी ज़िंदगी के अंतिम 18 साल यहां बिताए थे। सीमा की दोनों तरफ एंट्री पॉइंट के खुलने की शुरुआत गुरु नानक देव के 550वें जन्मदिन हुई थी। भारत और पाकिस्तान कॉरिडोर को लेकर पहले ही एक समझौते पर हस्ताक्षर कर चुके हैं जिसके तहत भारतीय तीर्थयात्रियों को गुरुद्वारा आने के लिए पाकिस्तान वीजा फ्री एंट्री देता है।

समझौते के तहत 5,000 भारतीय श्रद्धालु रोजाना गुरुद्वारा दरबार साहिब जा सकेंगे।गुरु नानक देवजी का प्रकाश पर्व सिख समुदाय का सबसे बड़ा पर्व है। सिखों के पहले गुरु नानक देव जी की जयंती देशभर में प्रकाश पर्व के रूप में मनाई जाती है। यह पर्व समाज के हर व्यक्ति को साथ में रहने, खाने और मेहनत से कमाई करने का संदेश देता है

Share