गोल्डन बाबा का दिल्ली के एम्स में निधन

नई दिल्ली। अपने भक्तों में गोल्डन बाबा के नाम से मशहूर सुधीर कुमार मक्कड़ उर्फ बिट्टू लाइट बाज का मंगलवार देर रात निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। गोल्डन बाबा ने दिल्ली के एम्स में आखिरी सांस ली। बता दें कि दिल्ली के गांधी नगर थाने में गोल्डन बाबा पर कई आपराधिक केस दर्ज हैं।

गोल्‍डन बाबा 20 किलो स्‍वर्ण आभूषण और 21 लग्‍जरी कारों के साथ कांवड़ यात्रा पर गए थे। इसकी हर तरफ चर्चा हुई थी। गोल्डन बाबा हरिद्वार में कई अखाड़ों से संबंधित रहे। उनके बारे में उनके भक्तों के बीच काफी कहानियां प्रचलित हैं।

कहा जाता है कि गोल्डन बाबा पहले कपड़ों के व्यापारी थे लेकिन फिर उन्हें लगा कि उन्हें अपने पापों का प्रायश्चित करना चाहिए। इसलिए सुधीर मक्कड़ एक आम इंसान से गोल्डन बाबा बन गए। कहा जाता है कि वह मूल रूप से यूपी के गाजियाबाद के रहने वाले थे।

उन्हें गोल्डन बाबा कहे जाने के पीछे भी खास वजह है। सुधीर मक्कड़ को सोना पहनने का बहुत शौक था, इसलिए वह अपने शरीर पर काफी मात्रा में सोना पहनते थे। उनसे जुड़े लोग बताते हैं कि सुधीर, सोने को अपना देवता मानते थे इसलिए वह हमेशा सोना पहने रहते थे। इसी वजह से लोग उन्हें गोल्डन बाबा कहने लगे। एजेंसी