उत्तराखंड में राशन की दुकानों से मिलेगा मुफ्त राशन

उत्तराखंड में राशन की दुकानों से मिलेगा मुफ्त राशन

उत्तराखंड।उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार,11 अक्टूबर को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत अन्नोत्सव कार्यक्रम के प्रथम चरण का शुभारंभ करते हुए छह लाभार्थियों को खाद्यान्न किट वितरित किए। सीएम आवास स्थित जनता दर्शन हाल में मुख्य कार्यक्रम मुख्यमंत्री ने राज्यभर के अन्नोत्सव योजना के लाभार्थियों के साथ संवाद किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि राज्य की समस्त 9230 राशन की दुकानों के माध्यम से कुल 14 लाख राशन थैलों का निशुल्क वितरण किया जाएगा। जानकारी के लिए बता दें कि इस योजना से एक माह में राज्यभर में 14 लाख लोगों को राशन का बैग दिए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएम मोदी ने हमेशा गरीबों की चिंता की है। कोरोना काल में जब सारी आर्थिक गतिविधियां रुकी थीं,तब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने देश के 80 करोड़ लोगों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में निशुल्क राशन सम्मान के साथ उपलब्ध करवाया। केन्द्र की योजनाओं के साथ राज्य सरकार भी अपने ओर से राज्य की जनता की आगे आकर कार्य कर रही है।

प्रधानमंत्री की दूरदृष्टि नेतृत्व क्षमता और सबका साथ,सबका विकास की भावना के कारण ही हमने एकजुटता से कोरोना का सामना किया और आज करोड़ों लोग सम्मान के साथ जीवन यापन कर पा रहे है। कोरोना संकट की घड़ी में केन्द्र और राज्य सरकार आप सब के साथ निरंतर खड़ी रही है। राज्य में हमने प्रदेश की जनता को कोरोना राहत पैकेज दिए। यहीं नहीं 207 प्रकार की निशुल्क जांचों की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अन्तर्गत वर्ष 2020 में अन्त्योदय एवं प्राथमिक परिवारों के लाभार्थियों को माह अप्रैल से नवम्बर कुल 8 माह तक प्रति यूनिट 05 किग्रा खाद्यान्न (गेहूं,चावल) तथा एक किग्रा दाल प्रति कार्ड नि शुल्क वितरण किया गया। इसके अलावा वर्ष 2021 में अन्त्योदय एवं प्राथमिक परिवारों के लाभार्थियों को माह मई से नवम्बर कुल 7 माह तक प्रति यूनिट 5 किग्रा खाद्यान्न (गेहूं,चावल) निःशुल्क वितरण कराया जा रहा है। इन दोनों योजनाओं के अलावा आत्मनिर्भर भारत योजना के अन्तर्गत प्रवासियों,अवरुद्ध प्रवासियों के लिए भारत सरकार ने 5 किग्रा,चावल प्रति व्यक्ति एवं 1 किग्रा चना भी प्रति परिवार निःशुल्क वितरित किया।

जानकारी के लिए बता दें कि वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के अन्तर्गत उत्तराखंड में अगस्त, 2020 से राशनकार्ड पोर्टेबिलिटी लागू किया गया है,जिसके माध्यम से राज्य में अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी परिवारों को खाद्यान्न सुरक्षा उपलब्ध कराई जा रही है।बताना चाहेंगे कि राज्य खाद्य योजना के अन्तर्गत राज्य सरकार द्वारा अपने संसाधनों से वर्ष 2020 तथा 2021 में माह अप्रैल से जून तक कुल 3-3 माह लगभग 10 लाख परिवारों को 12.50 किग्रा अतिरिक्त खाद्यान्न प्रति कार्ड सब्सिडाइज दरों पर वितरित किया गया। इसके अतिरिक्त राज्य सरकार द्वारा अपने संसाधनों से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना तथा राज्य खाद्य योजना के लगभग 24 लाख परिवारों को 2 किग्रा चीनी प्रति कार्ड 25 प्रति किग्रा की दर से भी वितरित किया गया।

कार्यक्रम में वर्चुअल जुड़कर कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत ने कहा कि अन्नोत्सव कार्यक्रम का उद्देश्य राज्य के समस्त लाभार्थियों को भोजन के साथ-साथ सम्मान प्रदान करना है। प्रथम चरण में राज्य मुख्यालय,जिला मुख्यालय,तहसील मुख्यालय,ब्लाक मुख्यालय,नगर निगम एवं नगर पालिका क्षेत्रों में राशन की दुकानों के माध्यम से निःशुल्क खाद्यान्न वितरण समारोह पूर्वक किया जाएगा। एक माह में समस्त 9230 राशन की दुकानों के माध्यम से निःशुल्क खाद्यान्न का वितरण समारोह पूर्वक किया जाएगा। प्रत्येक राशन की दुकानों पर नोडल अधिकारी की ओर से पर्यवेक्षण किया जाएगा।

इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने वर्चुअल माध्यम से विभिन्न जिलों के चयनित लाभार्थियों से बात की। इस दौरान बागेश्वर की माला देवी, गीता देवी, ऊधम सिंह नगर की सोनिया कालरा, रमेश थापा,हरिद्वार की लीला देवी और उत्तरकाशी की सुनिता देवी एवं नौमी देवी से बात की। मुख्यमंत्री ने सभी से उन्हें मिल रहे राशन के बारे में जानकारी ली। राज्य सरकार द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में सचिव बीएस मनराल,जिलाधिकारी देहरादून आर राजेश कुमार,अपर सचिव प्रताप शाह मौजूद रहे। इसके अलावा वर्चुअल माध्यम से जनपदों से जिलाधिकारी,जनप्रतिनिधि,राशन विक्रेता, लाभार्थी उपस्थित थे।

 

 

Share