हैमर से लैस होकर LCA तेजस अब और ज्यादा शक्तिशाली होगा

हैमर से लैस होकर LCA तेजस अब और ज्यादा शक्तिशाली होगा

नई दिल्ली।भारतीय वायुसेना को मिलने वाला एलसीए तेजस लड़ाकू विमान अब फ्रांसीसी मिसाइल हैमर से लैस होकर और ज्यादा शक्तिशाली होगा। भारतीय वायुसेना ने फ्रेंच हैमर मिसाइलों के साथ तेजस की क्षमताओं को बढ़ाने के लिए आपातकालीन खरीद के तहत फ्रांस को ऑर्डर दिया है। इस घातक मिसाइल से फिलहाल लड़ाकू राफेल को लैस किया जाना है। भारतीय वायुसेना को मिलने वाले एलसीए तेजस लड़ाकू विमान 65 फीसदी स्वदेशी होंगे। स्वदेशी रक्षा तकनीक को बढ़ावा देने के लिए देशी उत्तम रडार लगाए जाएंगे। यानी वायुसेना को मिलने वाले विमानों का पहला जत्था इजरायल के रडार की जगह देशी उत्तम रडार से लैस होगा।

क्या है हैमर ?

जानकारी के लिए बता दें कि हैमर हवा से जमीन पर मार करने वाली तेज गति से उड़ने वाली मिसाइल है। इसका वजन 340 किलोग्राम है। यह 10.2 फीट लंबी होती है। इसके अगले हिस्से में नेविगेशन और गाइडेंस सिस्टम लगा होता है। तकनीकि भाषा में इसे हाइली एजाइल एंड मैनोवरेबल म्यूनिशन एक्टेंडेड रेंज के नाम से जाना जाता है। हैमर मिसाइल हवा से जमीन पर 60 से 70 किलोमीटर तक दुश्मन को निशाना बना सकती है। राफेल में लगने वाली हैमर मिसाइल काफी खतरनाक है। इसे जीपीएस के बिना भी 70 किलोमीटर की रेंज से लॉन्च किया जा सकता है। फ्रांस से 36 राफेल विमानों का सौदा होते समय भारत ने बजट के अभाव में महंगे हैमर सिस्टम्स लेने के बजाय इजरायली स्पाइस-2000 बम से ही काम चलाने का निर्णय लिया था।

भारतीय वायुसेना ने एलसीए तेजस लड़ाकू विमानों को खतरनाक हैमर मिसाइल से लैस करने का फैसला लिया है। तेजस की मारक क्षमताओं को बढ़ाने के लिए वायुसेना ने आपातकालीन खरीद के तहत फ्रांस को ऑर्डर दिया है। इन मिसाइलों की वजह से तेजस फाइटर जेट को हाई एल्टीट्यूड वाले इलाके यानी पर्वतों में छिपे दुश्मनों को मार गिराने में आसानी होगी। यह पूर्वी लद्दाख के इलाके में विपक्षी सेनाओं के बंकरों और पोस्ट को उड़ा सकती है। भारत सरकार ने एलसीए तेजस फाइटर की दो स्क्वाड्रन को संचालित कर दिया है। इसके अलावा चार और स्क्वाड्रन को एक्टीवेट करने की तैयारी चल रही है।

स्वदेशी रक्षा उद्योग में भारतीय वायुसेना और ‘आत्मनिर्भर भारत’ के लिए 03 फरवरी को एयरो इंडिया-2021 के दौरान हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के साथ 83 तेजस मार्क-1ए फाइटर जेट के सौदे पर हस्ताक्षर किए गए थे। 83 एलसीए एमके-1ए में से 63 विमानों में इलेक्ट्रॉनिक एईएस रडार लगेंगे। इसके लिए डीआरडीओ और एचएएल में करार हुआ है। वायुसेना के पहले वाले ऑर्डर के 40 एमके-1 विमानों में मैकेनिकल इजराइली रडार लगाए जाएंगे। एचएएल ने तेजस में स्वदेशी सामग्री 62 प्रतिशत से बढ़ाकर 65 फीसदी करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

Share