दिल्‍ली दंगा: पुलिस ने जारी किया कबूलनामा, ताहिर हुसैन हिंदुओं को सबक सिखाना चाहता था

नई दिल्‍ली। दिल्ली दंगे को लेकर दिल्‍ली पुलिस ने अब तक का सबसे बड़ा खुलासा किया है। हिंसा का मास्‍टर माइंड और आम आदमी पार्टी का निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन ने पुलिस के सामने दंगे भड़काने की बात स्वीकार की।

ताहिर हुसैन के कबूलनामे के मुताबिक जब वो 2017 में आम आदमी पार्टी का पार्षद बना तब से ही उसके मन में था कि मैं अब राजनीति और पैसों की बदौलत हिंदुओ को सबक सीखा सकता हूं। ताहिर हुसैन ने कहा, ‘मेरे जानकर खालिद सैफी ने कहां कि तुम्हारे पास राजनीतिक पावर और पैसा दोनों है जिसका इस्तेमाल हिंदुओं के खिलाफ और कौम के लिए करेंगे। मैं इसके लिए हमेशा तैयार रहूंगा।

राम मंदिर का फैसला आया तो लगा पानी सिर के उपर आ गया। कश्मीर में धारा 370 हटने के बाद खालिद सैफी मेरे पास आया और बोला की इस बार अब हम चुप नहीं बैठेंगे। इसी बीच राम मंदिर का भी फैसला आ गया और CAA कानून भी आ गया अब मुझे लगा कि पानी सिर से ऊपर जा चुका है। अब तो कुछ कदम उठाना पड़ेगा।’

दंगे भड़काने की बात स्वीकार की
हुसैन ने पुलिस को बताया कि ट्रंप की यात्रा के दौरान CAA के खिलाफ लोगों को सड़कों पर उतरने की अपील की थी। जिसके बारे में मुझे खालिद सैफी ने बताया था और मुझे भी अपनी तैयारियों को तेज करने को कहा था। साथ ही तेजाब का इंतजाम करने को भी कहा, जिसे काफिरों और पुलिसवालों पर फेका जाएगा। ताहिर हुसैन ने बताया कि बताया कि सैफी के कहने के बाद उसने भी अपनी तैयारियां तेज कर दी। हुसैन ने कहा कि उसने कबाड़ियों से दोगुनी कीमत पर खाली बोतलें खरीदनी शुरू कर दी।

आईबी अफसर अंकित की हत्या में मुख्य आरोपी है ताहिर
दिल्ली पुलिस की चार्जशीट के मुताबिक, हुसैन IB अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या का मुख्य आरोपियों में शामिल है। उत्तर-पूर्व दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान शर्मा का शव चांद बाग के नाले से 26 फरवरी को बरामद किया गया था। एजेंसी