चीन ने रूस को दी ये नसीयत,भारत को हथियार सप्लाई न करें

भारत और चीन के बीच लद्दाख में हुई हिंसक झड़प के बाद भले ही चीन बातचीत से मसला सुलझाने की बात कर रहा हो। लेकिन उसके इरादे नेक नहीं है। चीन अभी भी इधर-उधर से भारत को कमजोर करने की कोशिश में लगा हुआ है।

दरअसल,चीन लद्दाख घटना के भारत को मिल रहे समर्थन के बाद बौखला गया है और प्रॉपगैंडा फैला रहा है। चीन ने अपने सरकारी अखबार पीपल्स डेली के जरिए रूस को ये नसीयत दी है कि वो भारत को मौजूदा नाजुक हालातों में हथियार सप्लाई न करें।

चीन ने अपना प्रॉपगैंडा फैलाने के लिए फेसबुक का इस्तेमाल किया है। चीन के अखबार पीपल्स डेली ने फेसबुक पर ‘सोसायटी फॉर ओरियंटल स्टडीज ऑफ रूस’ नाम के ग्रुप में लिखा है,कि विशेषज्ञ कहते हैं कि अगर रूस चीन और भारतीय लोगों के दिलों को पिघलाना चाहता है तो उसे भारत को ऐसे नाजुक समय में हथियार नहीं देने चाहिए। दोनों एशियाई देश रूस के करीबी हैं।

इस दौरान पीपल्स डेली ने भारत-चीन के तनाव के बाद तैयारी में आए भारत के लिए ये भी लिखा कि भारत को जल्द-से-जल्द 30 फाइटर जेट खरीदने हैं जिनमें MiG29 और 12 सुखोई 30MK शामिल हैं।

पीपल्स डेली से पहले ग्लोबल टाइम्स ने भी चीन की तरफ से खुलेआम चेतावनी दी थी कि 1962 के युद्ध में अमेरिका और रूस भारत के पक्ष में आए थे लेकिन चीन ने तब भी किसी की परवाह न नहीं की थी और भारत को खदेड़ दिया था।ग्लोबल टाइम्स ये भी लिखा कि भारत अगर सीमा का उल्लंघन करता है,तो चीन को भी जवाब देना होगा और फिर किसी की भी सहायता भारत के काम नहीं आएगी।

ये खबर ऐसे समय में सामने आई है जब भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस में विक्ट्री डे के जश्न पर मॉस्को पहुंचे हैं। बताया जा रहा है कि इस दौरान डिफेंस डील को लेकर चर्चा की गई है। खबर है कि इस दौरान चीन की तरफ से शामिल होने वाले प्रतिनिधि से रक्षा मंत्री नहीं मिलेंगे।एजेंसी