कल भी चलेगा अभियान,आठ सौ बंदियों की होगी स्क्रीनिंग

जिला जेल में 1100 बंदियों की स्क्रीनिंग,40 में मिले टीबी के लक्षण
टीबी रोग के नियंत्रण के लिए विशेष अभियान चलाया गया
समय भास्कर,फिरोजाबाद। जिला क्षय रोग विभाग की ओर से टीबी रोग के नियंत्रण के लिए जिला जेल में टी बी स्क्रीनिंग अभियान चलाकर 11 सौ बंदियों की स्क्रीनिंग की। इसमें 40 बंदियों में टीबी के लक्षण पाए गए। इनके बलगम का परीक्षण मंगलवार को होगा। शेष 800 की स्क्रीनिंग होगी। एक्टिव केस फाइंडिंग एवं निक्षय पोषण योजना कैम्पेन के पहले चरण में अनाथालय,वृद्धावस्था,नारी निकेतन,बाल संरक्षण गृह,मदरसा,नवोदय विद्यालय और कारागार में टीबी के मरीजों की तलाश की गई।
हारेगा टीबी-जीतेगा देश स्लोगन के तहत चल रहे अभियान के बारे में जिला क्षय रोग अधिकारी डा.आरएस अतेंद्र ने बताया कि मरीजों की तलाश कर उनका इलाज शुरू किया जाएगा। मरीजों को सुबह नाश्ते के बाद ही दवा खाना चाहिए। गर्म तासीर वाली चीजें जैसे चाय,कॉफी,खट्टी एवं मिर्च मसाले वाली चीजें खाने से बचें। रोज सुबह हल्का हल्का व्यायाम करें। खाने में फाइबर वाली चीजें जैसे हरी सब्जियां,मौसमी फल,दालें,सोयाबीन ज्यादा से ज्यादा लें। खाने के तुरन्त बाद लेटें नहीं बल्कि थोड़ा टहलें।

उप जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ.अशोक कुमार ने बताया कि वैश्विक महामारी कोविड के दौरान   लगे लॉकडाउन में ऐसे गरीब मरीजों को जिले की सामाजिक संस्थाओं द्वारा समय समय पर राशन उपलब्ध कराया गया है। मरीजों को पौष्टिकता के लिए पांच सौ रुपये हर महीने उनके खाते में भेजे जाते हैं। जिला पीपीएम समन्वयक मनीष यादव ने बताया कि टीबी मरीज को हताश नहीं होना है। जनपद फ़िरोज़ाबाद का टीबी विभाग उसके साथ है। समय से दवा खाकर और सारे नियमों को पालन करने के बाद टीबी को आसानी से हराया जा सकता है। उन्होंने आह्वान किया कि टीबी को छिपाएं नहीं,बल्कि इलाज को शुरू कराएं।

एक्टिव केस फाइंडिंग एवं निक्षय पोषण योजना में यह होंगे कार्यक्रम

पहले चरण के बाद अब दूसरा चरण सात से 16 सितम्बर तक होगा। इसमें शहरी व ग्रामीण मलिन बस्ती व हाई रिस्क जनसंख्या वाले क्षेत्र में टीबी,एचआईवी व डायबिटीज मरीजों का ब्यौरा जुटाया जाएगा। विशेष अभियान के अंतर्गत स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा घर-घर भ्रमण कर क्षय रोगियों का चिन्हांकन किया जाएगा। तीसरे  चरण में 17 से 30 सितम्बर के बीच चिन्हित समूहों,स्थलों में एक्टिव केस फाइंडिंग होगा। चौथे चरण में एक अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच निजी चिकित्सकों से संपर्क किया जाएगा।
Share