घर खरीदने पर कर सकते हैं महा बचत ! जाने कैसे ?

समय भास्कर नई दिल्ली । जल्दी आपके लिए घर खरीदना सस्ता हो सकता है क्योंकि सरकार निर्माणाधीन प्रॉपर्टी पर जीएसटी की दर 12% से 5% करने जा रही है।  मंत्रियों के समूह से पास होने के बाद  जीएसटी परिषद से भी हरी झंडी मिलने की उम्मीद है।  इस फैसले के बाद निर्माणाधीन प्रॉपर्टी की कीमत में कमी आएगी।

सरकार द्वारा दी जाने वाली इस छूट के कारण घर खरीदने की तैयारी कर रहे लोगों के लिए एक बड़ा तोहफा सरकार की तरफ से दिया गया है।  इससे लोग अपने बजट में अच्छी प्रॉपर्टी खरीद पाएंगे। 12% जीएसटी लगने के कारण प्रॉपर्टी बाजार में काफी गिरावट देखने को मिली थी।  बाजार द्वारा जीएसटी के कारण लोगों द्वारा अपने बजट की प्रॉपर्टी उनके बजट से बाहर हो गई थी । 

अपने घर का सपना होगा पूरा-निर्माणाधीन प्रॉपर्टी की बिक्री पर अधिक जीएसटी लागू होने के बाद खरीदी पूरी तरह से थम गई थी । इसकी वजह जीएसटी के चलते निर्माणाधीन प्रॉपर्टी की लागत बनकर तैयार घर के बराबर हो जाना था । अगर जीएसटी घटाने को लेकर जीओएम की बात जीएसटी काउंसिल मान लेती है तो निर्माणाधीन मकानों की कीमत में बड़ी  कटौती होगी। एक करोड़  रुपए की कीमत में अब करीब 7.5 लाख रुपए की बचत होगी वहीं किफायती आवास पर जीएसटी को 8% से घटाकर 3% करने की तैयारी हो रही है। 

बजट के प्रावधान डालेंगे असर- बजट में घर खरीदने वालों को प्रोत्साहित करने के लिए पाँच लाख तक की आयकर मुक्त करने और स्टैंडर्ड डिडक्शन छूट की सीमा पचास हज़ार  करने से मध्यम वर्गीय परिवार की बचत में इजाफा होगा । वही तो घर खरीदने पर पूंजीगत लाभ से राहत व किराए T D S  कटौती सीमा 2.4 लाख रुपए होने से निवेशकों का रुझान प्रॉपर्टी बाजार में बढ़ेगा । विशेषज्ञों का मानना है कि इससे प्रॉपर्टी बाजार में तेजी आएगी। पिछले काफी दिनों से प्रॉपर्टी बाजार अपनी मंदी के चलते काफी चर्चा में रहा। 

सस्ता होम लोन- रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट में 0.25% की कटौती के बाद बैंक होम लोन पर ब्याज कम करेंगे।  नए घर खरीददार प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत होम लोन पर सब्सिडी का लाभ ले सकेंगे।  इससे घर खरीदने वालों पर E M I का बोझ कम होगा।  उनकी खरीदारी क्षमता बढ़ेगी।

निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्यान

1-परिवहन व्यवस्था देख ले

आवासीय परियोजना में संपर्क का अहम रोल होता है इसलिए  किसी परियोजना में फ्लैट बुक करने का फैसला लेते समय  वहां पर कैसे पहुंचा जा सकता है।  यानी मेट्रो, रोड, रेल, अस्पताल, स्कूल और मॉल से उस जगह की दूरी एवं आने जाने की सुगमता के बारे में जरूर पता करें । सिर्फ कम कीमत को प्रॉपर्टी खरीदने का पैमाना नहीं बनाना चाहिए।

2-बिल्डर की साख

घर खरीदते वक्त सबसे पहले बिल्डर की साख उसकी विश्वसनीयता को ध्यान में अवश्य रखें एवं उसके पुराने रिकॉर्ड और आर्थिक स्थिति की भी जांच कर ले, जिससे आप यह अनुमान लगा सकेंगे कि वह आपको तय वक्त पर घर बना कर दे सकता है या नहीं।

3-प्रोजेक्ट के दस्तावेज

किसी भी प्रॉपर्टी को खरीदने का फैसला जल्दबाजी में ना करें।  पहले उस प्रोजेक्ट के बारे में पूरी जानकारी ले लें।  जैसे कि उसको सभी तरह के मंजूरी मिल चुकी है।  यानी वह प्रोजेक्ट सरकार द्वारा दिए जाने वाले सभी नो ऑब्जेक्शन ले चुका हो । किसी भी प्रोजेक्ट के लिए सरकार की विभिन्न संस्थाएं भिन्न-भिन्न स्तर पर शामिल होती हैं और वे अपने द्वारा सारे पैमाने पूरे करने वाले बिल्डर को नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट प्रदान करती हैं।  इसकी भी जांच कर ली जाए । बिल्डर के पास प्रोजेक्ट के सभी कागज जैसे टाइटल डीड प्रॉपर्टी, टैक्स फॉर अप्रूवल आदि के पेपर भी जांच कर कोई फैसला लें।

4-प्रॉपर्टी की कीमत

प्रॉपर्टी खरीदने से पहले आप अपना बजट तय कर लें इसके बाद प्रॉपर्टी की तलाश करें। कोई प्रॉपर्टी पसंद आने पर उसकी कीमत व अन्य शुल्क का भी पता कर ले । हर तरह से जांच ले। उसके बाद आप उस प्रॉपर्टि की कीमत टोल मोल भी कर सकते हैं। 

5-आवासीय परियोजना में मिलने वाली सुविधाएं

जिस  परियोजना में आप अपना मकान या फ्लैट खरीदने जा रहे हैं, तो इस बात की पूरी तसल्ली कर ले कि बिल्डर आपको उस परियोजना में क्या क्या सुविधाएं दे रहा है। एक बात पता करना कभी ना भूले की दी जाने वाली सुविधाओं में फ्री कौन सी हैं और किस किस परियोजना का शुल्क देना होगा। यह शुल्क एक बार देना होगा या हर साल इसके बारे में भी पता कर ले तो आप कई कठिनाइयों से बस सकते हैं।

6-रोजगार के अवसर

अगर आप किराए से होने वाली आमंदनी के लिए प्रॉपर्टी में निवेश कर रहे हैं तो एक बात यह देखना मुनासिब रहेगा कि उसके आसपास रोजगार के अवसर हैं या नहीं जैसे प्रॉपर्टी इंडस्ट्रियल एरिया या रिहयशी एरिया से बहुत दूर ना हो। 

more recommended stories