जम्मू-कश्मीर में बरघशेखा भवानी मंदिर पर हमला,जांच के लिए SIT का गठन

जम्मू-कश्मीर में बरघशेखा भवानी मंदिर पर हमला,जांच के लिए SIT का गठन

जम्मू-कश्मीर। शनिवार को उपद्रवियों ने अनंतनाग में बरघशेखा भवानी के मंदिर पर हमला किया. इस दौरान मंदिर में तोड़फोड़ की गई. मंदिर पर हमले की पुष्टि करते हुए पुलिस ने कहा है कि इस मामले में केस दर्ज कर लिया गया है। साथ ही जांच के लिए एसआईटी (SIT) का गठन किया गया है।

बरघशेखा भवानी का मंदिर कश्मीर घाटी के अनंतनाग जिले में मट्टन पहाड़ पर है और यह कश्मीरी पंडितों के आस्था का केंद्र है। बरघशिखा मंदिर को ऐसे समय में निशाना बनाया गया है, जब सरकार घाटी में कश्मीरी पंडितों की वापसी की कोशिश में जुटी है। घटना की पुष्टि करते हुए जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कहा कि विश्वसनीय सूत्रों से सूचना मिली कि मट्टन पहाड़ पर बरघशेखा भवानी मंदिर को कुछ उपद्रवियों ने अपवित्र किया है। पुलिस ने कहा कि इस मामले में केस दर्ज किया गया है और जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया है।

वहीं, घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे और जांच शुरू की. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अनंतनाग के डीसीपी पीयूष सिंगला ने कहा कि किसी को सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने की इजाजत नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस मामले में जो भी दोषी पाए जाएंगे, उन्हें सजा दी जाएगी. उन्होंने कहा कि घाटी में इस तरह के कृत्य को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और दोषियों को कानून के संबंधित धाराओं के तहत सजा दी जाएगी।

इधर, नेशनल कांफ्रेंस के नेता और पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने घटना की निंदा करते हुए ट्वीट किया है. अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा है, अस्वीकार्य। मैं इस तोड़फोड़ की कड़ी निंदा करता हूं और प्रशासन खासकर जम्मू-कश्मीर पुलिस से अपील करता हूं कि दोषियों की पहचानकर सख्त सजा दी जाए। पीडीपी नेता नईम अख्तर ने भी घटना की निंदा करते हुए दोषियों को सख्त सजा देने की मांग की। एजेंसी

Share