कोहली से नफरत करते हैं ऑस्ट्रेलियाई- टिम पेन 

सिडनी। टेस्ट कप्तान टिम पेन ने कहा कि भारतीय कप्तान विराट कोहली पर ऑस्ट्रेलियाई लोगों की राय अलग अलग हैं जिन्हें वे प्रतिद्वंद्वी के तौर पर नफरत करना पसंद करते हैं लेकिन साथ ही प्रशंसक के तौर पर खेलते हुए देखने का लुत्फ उठाते हैं। ऑस्ट्रेलिया और भारत 4 मैचों की टेस्ट श्रृंखला खेलेंगे जिसकी शुरुआत एडीलेड में 17 दिसंबर से दिन-रात्रि मैच से होगी।

पेन ने ‘एबीसी स्पोर्ट’ से कहा कि मुझसे उनके बारे में काफी सवाल पूछे जाते हैं,लेकिन वे मेरे लिए एक अन्य खिलाड़ी ही हैं,मुझे ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। मेरा उनके साथ कोई रिश्ता नहीं है,मैं उन्हें टॉस के समय देखता हूं और उनके खिलाफ खेलता हूं,बस इतना ही।

उन्होंने कहा कि विराट के साथ काफी मजे की बात है, हम उन्हें नफरत करना पसंद करते हैं लेकिन साथ ही क्रिकेट प्रशंसक के तौर पर उन्हें बल्लेबाजी करते हुए देखना पसंद करते हैं। निश्चित रूप से उन्हें लेकर राय अलग अलग हैं। हम उन्हें बल्लेबाजी करते हुए देखना पसंद करते हैं लेकिन साथ ही हम उन्हें ज्यादा रन जुटाते हुए भी नहीं देखना चाहते।

पिछली बार जब दोनों टीमें एक दूसरे के आमने-सामने हुई थीं तो दोनों कप्तान मौका मिलते ही एक-दूसरे से भिड़ने को तैयार रहते थे। कई मौकों पर दोनों की मैदानी अंपायर से अलग से बात भी हुई थी।

पेन ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच प्रतिस्पर्धा काफी कड़ी होती है और वे निश्चित रूप से प्रतिस्पर्धी व्यक्ति हैं और मैं भी,तो इसलिए कुछ मौकों पर हम दोनों के बीच बहस हुई लेकिन ऐसा इसलिए नहीं था कि वह कप्तान था और मैं कप्तान था,यह कोई भी हो सकता था।

पिछले साल भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 2-1 से हराया था,पेन ने कहा कि ईमानदारी से कहूं तो मैं अच्छा करने के लिये तैयार हूं,यह बड़ी श्रृंखला है।उन्होंने हमें पिछली बार यहां हराया था, निश्चित रूप से अलग टीम के साथ और जैसा कि मैंने कहा कि दोनों देशों के बीच प्रतिद्वंद्विता हमेशा बढ़ती जा रही है।उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि आप हमेशा सर्वश्रेष्ठ के खिलाफ खुद का परीक्षण करना चाहते हो बतौर खिलाड़ी और बतौर टीम हम निश्चित रूप से सर्वश्रेष्ठ हैं।

उन्होंने कहा कि जब क्रीज पर सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी मौजूद होते हैं तो यह हमेशा ही चुनौतीपूर्ण मुकाबला होता है। पेन ने कहा कि जब उसके जैसा अच्छा खिलाड़ी मैदान पर होता है तो हमेशा ही ज्यादा तनाव होता है,ऐसा ही इंग्लैंड के खिलाड़ियों के खिलाफ खेलने में होता है जैसे जो रूट और बेन स्टोक्स। उन्होंने कहा कि जब क्रीज पर दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी आते हैं तो जज्बे का स्तर ऊपर हो जाता है।