आखिर क्यों भारत में WhatsApp ने बंद किए 20 लाख अकाउंट्स,जाने वजह

आखिर क्यों भारत में WhatsApp ने बंद किए 20 लाख अकाउंट्स,जाने वजह

नयी दिल्ली।  अगस्त के महीने में कम से कम 20 लाख भारतीयों के व्हाट्सएप्प को बैन (WhatsApp Ban) कर दिया गया. कंपनी ने कहा है कि उसे एक महीने में 420 शिकायतें मिलीं और उसने 20.70 लाख (20 लाख 70 हजार) अकाउंट्स को बैन किया । इस तरह कुछ ही महीने में व्हाट्सएप्प भारत में 30 लाख से अधिक अकाउंट्स को ब्लॉक कर चुका है।

कंपनी ने अपनी कंप्लाएंस रिपोर्ट में यह जानकारी दी है. कहा गया है कि 16 जून से 31 जुलाई के बीच भी उसने 594 शिकायतें दर्ज कीं और 30 लाख से ज्यादा भारतीय WhatsApp अकाउंट्स को ब्लॉक किया. उसने कहा कि उसकी पॉलिसी का उल्लंघन करने वालों के ही अकाउंट बैन किये गये हैं।

व्हाट्सएप्प ने अपना रुख साफ करते हुए कहा कि कंपनी किसी यूजर का मैसेज नहीं देख पाती. उसने कहा कि एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन पॉलिसी के चलते वह ऐसा नहीं कर सकती. ऐसे में यूजर्स की सुरक्षा का ध्यान रखने के लिए अलग-अलग अकाउंट्स से मिलने वाले संकेतों, एन्क्रिप्शन के बिना काम करने वाले फीचर्स और यूजर रिपोर्ट्स आदि को समझकर किसी भी यूजर के अकाउंट को बैन करने के फैसले लेने पड़ते हैं।

दरअसल, भारत सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) कानून को काफी सख्त कर दिया है. सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स से कहा गया है कि वे हर महीने अपनी कंपनी की कंप्लएंस रिपोर्ट सरकार को सौंपें. इस रिपोर्ट में हर तरह का डाटा देने को अनिवार्य कर दिया गया है। इसमें कंपनी को बताना होता है कि उसे कितनी शिकायतें मिलीं और उनमें से कितनी शिकायतों पर उसने कार्रवाई की। साथ ही यह भी बताना होता है कि उसने क्या कार्रवाई की.

WhatsApp ने अभी हाल ही में अकाउंट को बैन करने की वजह बतायी थी. कंपनी ने कहा था कि उसने जितने अकाउंट्स को बैन किया है, उनमें से 95 फीसदी को प्रतिबंधित करने की वजह उनकी ओर से भेजे जाने वाले स्पैम मैसेज हैं. अगर वैश्विक स्तर पर देखें तो WhatsApp ने एक महीने में ही करीब 80 लाख अकाउंट्स को बैन किया है.

ज्ञात हो कि भारत में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का हर तरह के लोग इस्तेमाल करते हैं. WhatsApp के इस्तेमाल के लिए कंपनी ने अपनी नीति तय कर रखी है. अकाउंट बनाते समय आपको यह कहना पड़ता है कि आप कंपनी की नीतियों के अनुरूप ही WhatsApp का इस्तेमाल करेंगे. कंपनी जो नीति बनाती है, उसमें यूजर की निजता और उसके संदेश की सुरक्षा उसकी (कंपनी की) जिम्मेदारी होती है।

WhatsApp पर मिला मल्टी-डिवाइस सपोर्ट, एक साथ कई डिवाइस पर ऐसे खोले अपना व्हाट्सऐप अकाउंट
अगर कोई भी शख्स कंपनी की तय गाइडलाइन का उल्लंघन करता है, तो कंपनी उसके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है। यही वजह है कि किसी भी सोशल मीडिया साइट पर जब यूजर नियमों का उल्लंघन करने लगता है, तो कंपनियां उसके खिलाफ कार्रवाई करती है. WhatsApp की ओर से एक महीना में 20 लाख यूजर के अकाउंट को बंद करना भी ऐसी ही एक कार्रवाई है। एजेंसी

Share