प्रधानमंत्री ने ‘फिट इंडिया’ अभियान की शुरुआत की

fit india

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों को अपने दैनिक जीवन में शारीरिक गतिविधियां और खेलों को शामिल करने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से गुरुवार को ‘फिट इंडिया’ अभियान की शुरुआत की। मोदी ने इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में इस अभियान का शुभारंभ करते हुए कहा,खेलों का संबंध प्रत्यक्ष रूप से अच्छे स्वास्थ्य (फिटनेस) से है लेकिन आज शुरू किये गये फिट इंडिया अभियान का विस्तार खेलों से परे किया गया है। फिटनेस सिर्फ एक शब्द नहीं है बल्कि यह एक स्वस्थ और खुशहाल जीवन की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इस अभियान का लक्ष्य देश के लोगों को अपनी अस्त-व्यस्त जीवन शैली में सुधार कर सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रेरित करना है।

मोदी ने राष्ट्रीय खेल दिवस पर इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में कहा,अस्त-व्यस्त जीवन शैली की वजह से कई तरह के रोग बढ़ रहे हैं। रोजमर्रा के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाकर इनसे बचा जा सकता है। जीवन शैली में थोड़े-बहुत बदलाव लाकर भी कई बीमारियों को दूर किया जा सकता है। ‘फिट इंडिया’ अभियान देश के लोगों को इन बदलावों के लिए प्रेरित करने के वास्ते है। प्रधानमंत्री ने मेजर ध्यानचंद को याद करते हुए कहा,राष्ट्रीय खेल दिवस पर आप सभी को मेरी शुभकामनाएं। इसी दिन भारत को मेजर ध्यानचंद जैसा खेल का एक सितारा मिला जिन्होंने दुनिया को अपने खेल से मंत्रमुग्ध कर दिया।

उन्होंने कहा,आज हमारे युवा खिलाडिय़ों को बधाई देने का भी दिन है जो विश्व मंच पर तिरंगे की शान निरंतर बढ़ा रहे हैं। बैडमिंटन,टेनिस,एथलेटिक्स,बॉक्सिंग या कुश्ती हो,हर क्षेत्र में हमारे खिलाड़ी हमारी उम्मीदों और आकांक्षाओं को नये पंख दे रहे हैं। वे जो पदक जीतते हैं,जो उनकी तपस्या का परिणाम होते हैं। यह नये भारत के नये जुनून और नये विश्वास को भी दर्शाता है।

उन्होंने कहा,पिछले कुछ दशकों तक एक सामान्य व्यक्ति प्रतिदिन आठ से 10 किलोमीटर तक पैदल चला करता था। फिर धीरे-धीरे तकनीक बदलाव आया और आधुनिक साधन आ गये,लोगों ने पैदल चलने की आदत को कम कर दिया। अब स्थिति क्या है? जिस तकनीक ने हमें कम चलने की आदत डाल दी,वहीं तकनीक अब हमें बताती है कि आज आपने कितने कदम चले हैं, अभी तक पांच हजार कदम पूरे नहीं हुए हैं, दो हजार कदम अभी पूरे नहीं हुए हैं,अभी और चलें।

more recommended stories