युवा किसान कार्यशाला में किसानों की आय बढ़ाने, रोजगार युक्त ग्राम, स्वावलंबी किसान और समर्थ भारत बनाने पर मंथन हुआ

IMG-20190721-WA0048
आगरा। भारतीय किसान संघ की दो दिवसीय युवा किसान कार्यशाला में किसानों की आय बढ़ाने, रोजगार युक्त ग्राम, स्वावलंबी किसान और समर्थ भारत बनाने पर मंथन हुआ। कार्यशाला में आज दूसरे दिन भी विभिन्न मुद्दों पर मंथन हो रहा है।
सरस्वती शिशु मंदिर कमला नगर पर आयोजित इस कार्यशाला का उद्घाटन आंबेडकर विवि के कुलपति डॉ. अरविंद दीक्षित एवं संघ के राष्ट्रीय संगठन मंत्री दिनेश कुलकर्णी ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। दिनेश कुलकर्णी ने कहा कि जागरूक और संगठित न होने की वजह से किसान समस्याओं से जूझ रहा है और प्रशासनिक मशीनरी इसी का फायदा उठाती है। उन्होंने किसानों से कहा कि फसल को मांग के अनुसार साफ और सुंदर बनाकर बेचें तो जरूर लाभकारी मूल्य मिलेगा।
कुलपति डॉ. अरविंद दीक्षित ने कहा के अन्नदाता को अपने उत्पाद में समय के अनुसार बदलाव लाना चाहिए ताकि बाजार में अच्छी कीमत मिल सके। आईसीएआर के उप निदेशक आरटी पाटिल ने किसानों को अपने उत्पाद पर लाभ कमाने की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने जैविक खेती पर जोर देते हुए कहा कि आलू की कीमत पांच से दस रुपये प्रति किलो है और उसी आलू की चिप्स 350 रुपये प्रति किलो से 400 रुपये प्रति किलो बिकती है। जो मूंग 45 रुपये किलो बिकती है, उसी मूंग की दाल की कीमत 100 रुपये तक है। जो काम कंपनियां करती हैं, उसे किसान खुद करने लगे तो उसे अच्छी कमाई होगी। उन्होंने गांवों में छोटे उद्योग लगाने का सुझाव दिया और कहा कि इससे फसल की अच्छी कीमत प्राप्त होगी वहीं किसानों को रोजगार भी मिलेगा।
कार्यशाला में किसान संघ के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह, प्रदेश संगठन मंत्री शिवकांत, ब्रज प्रांत अध्यक्ष मोहन सिंह चाहर, क्षेत्र संगठन मंत्री सोमपाल, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष जुगल किशोर, राम कुमार, प्रांत संगठन मंत्री धर्मेंद्र, महामंत्री लक्ष्मण सिंह, ऋषि कुमार, राजेश चाहर, अनिल गुप्ता भी शिरकत कर रहे हैं।

more recommended stories