युवक ने मंदिर के अंदर की आत्महत्या चार सुसाइड नोट भी छोडे

IMG-20190721-WA0036

थाना अछनेरा के अंतर्गत रायभा गांव में उस समय कोहराम मच गया जब मंदिर में पूजा करने के लिए पहुँची गांव की महिलाओं ने मंदिर में एक युवक का शव झूलते हुए दिखाई दिया। यह दृश्य देखकर महिलाओं की चीख निकल गयी। मंदिर में शव मिलने की सूचना से गाँव मे आग की तरह सनसनी फैल गयी। मौके पर भीड़ जमा हो गई। लोगों ने शव की पहचान श्याम सिकरवार पुत्र चंदन सिकरवार के रूप में की।
इसकी सूचना तत्काल पुलिस को व मृतक के परिवार को दी। घटना की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय पुलिस मौके पर पहुँच गयी।
घटना की सूचना से मृतक के परिवार में कोहराम मच गया। मृतक के शव के पास से चार सुसाइड नोट मिले है
जो भगवान, मां भाई,दोस्त के नाम लिखे है। मौके पर पहुँची पुलिस ने शव को उतारा और पूछताछ के बाद शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम गृह भेज दिया।

बताया जाता है कि मृतक श्याम कुछ साल पहले जयपुर गया था जहाँ वो तंदूर लगाने का काम करता था। जयपुर में श्याम के किसी लड़की के साथ प्रेम संबंध हो गए। कुछ दिनों बाद श्याम जयपुर छोड़कर गुड़गांव में नौकरी करने लगा। इस बीच उसकी प्रेमिका ने उसे छोड़ दिया। जिससे वो परेशान रहने लगा और नौकरी छोड़कर गांव वापस आ गया।

पूछताछ में पता चला है कि गुरुवार को उसने अपने दोस्तों के सामने एलान किया था कि वो शनिवार को जान दे देगा। श्याम के दोस्तो ने भी इसे गंभीरता से नही लिया लेकिन मृतक श्याम ने मरने से पहले फेसबुक पर लाइव किया था और उसमें उसने अपनी परेशानी और सुसाइड करने का जिक्र किया था। मृतक के शव के पास से चार सुसाइड नोट बरामद हुए है जिसमे उसने भाइयों से माँ का खयाल रखने, फोन बेचकर उधार चुकाने, मेरी मौत के लिए किसी को जिम्मेदार न मानने और भगवान के दर पर दम निकलने की बात लिखी है।
1पहला सुसाइड नोट में श्याम ने भाइयों के नाम लिखा है और बार बार माँ का ख्याल रखने का निवेदन किया है। इतना ही नही सुसाइड के लिए उसने माफी मांगी है और भाइयों से माँ का ख्याल रखने और उसकी आंख से कभी आंसू न निकलने का वायदा मांगा है।
2दूसरा सुसाइड नोट श्याम ने दोस्तों के नाम लिखा है। उसमे लिखा है कि में तुम सब को छोड़कर जा रहा हूँ। अब तक की गलतियों के लिए माफी मांगता हूं। मैंने जो गलती की है उसकी सजा मुझे मिलनी चाहिए। सुसाइड नोट में उधारी का जिक्र है और फोन बेचकर इस उधारी को चुकाने की अपील मृतक श्याम ने की है।
3तीसरा सुसाइड नोट भगवान के नाम है। जिसमे श्याम ने लिखा है कि मंदिर से पवित्र स्थान कोई नही होता है। मै चाहता हूँ कि मेरी अंतिम सांस भगवान के दरवाजे पर ही निकले। इसलिए मंदिर में आत्महत्या कर रहा हूँ। मेरी इस गलती के लिए परिवार के लोगो को दुख न देना और मेरी गलतियों को माफ करना।
4चौथा सुसाइड नोट में श्याम ने लिखा है कि इस कदम के लिए में खुद जिम्मेदार हूं। मरने के बाद मेरे परिवार को तंग न किया जाए। किसी से कोई पूछताछ न हो। मरने के बाद मेरे शरीर के अंगों को दान कर दिया जाए। सभी जान पहचान वालो को मेरा आखरी प्रणाम।
मौके पर पहुँचे पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शव के पास से सुसाइड नोट बरामद हुए है लेकिन हर पहलू पर जांच की जा रही है। मृतक के परिजन और दोस्तो से पूछताछ चल रही है।फिलहाल श्याम के उस कदम से परिवार पूरी तरह से टूट गया है तो दोस्त भी सदमे में हैं कि आखिरकार समझदार श्याम ने कैसे यह कदम उठा लिया है.

more recommended stories