बरसात का मौसम राहत के साथ बीमारियों से बचाव

bimari
गर्मी से परेशान लोगो के लिए बरसात राहत की बूंदे लेकर आती है। लेकिन बरसात के मौसम में नदी ,नाले,गड्ढे,सभी पानी से भर जाते है जिस कारण गंदगी फैल जाती है।और इसी कारण बीमारिया पनपती है।
बच्चो की इम्युनिटी पावर कम होने के कारण जल्द ही इनकी चपेट में आते है। इसलिए इस मौसम में बच्चों का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है।
इस मौसम में बच्चो के खान पान का विशेष ध्यान देना होता है  जिसमे कुछ खाने व पीने की चीजों पर बिशेष तौर पर तैयार रहे जैसे
 1:-आहार* – बच्चो को इस आहार दे जो पोष्टिक हो। जो कि घर पर बना हो बाहर के खाने से परहेज करें। खाना ढँक कर रखे ।
बासी व बचे हुए खाने को कभी न खिलाये
 2:-फल* बरसात के मौसम में बच्चों को साफ धो कर फल जरूर खिलाये जिसमे मौसमी व संतरे जरूर खिलाये इनमे बिटामिन सी होती है जिससे बच्चो की इम्युनिटी पावर बढ़ाने में मदद मिलती है।
 3. पेय पदार्थ*   बरसात के मौसम में बीमारियों से बचाब के लिए हल्का गर्म पानी जिसमे थोड़ी अजवाइन मिक्स करके दे जिससे पेट दर्द की समस्या से निदान मिलता है
 4. साफ सफाई*  बरसात के मौसम सफाई का विशेष ध्यान रखे। व बाहर से चल कर आये जूते चप्पल को घर के दरबाजे से बाहर रखे व बच्चों के खिलोनो को भी साफ रखें।
 *बरसात में होने बाली आम बीमारिया*
 फोड़े-फुंसी/दाने* इस मौसम में फोड़े फुंसी ,बाल तोड़, पस वाले दाने, लाल दाने, बुखार आदि ये असल मे सीलन मॉइस्चर से फैलने बाले बैक्टीरिया के कारण होता है
 *एथलीट्स फुट* जो लोग ज्यादातर जूते पहने रहते है उनके पैरों की उंगलियां के बीच की स्किन गल जाती है यह समस्या बढ़ जाये तो इन्फ़ेक्सन नाखून तक फैल जाता है
 *घमोरियां , रेशिस*  मॉइस्चर होने के कारण घमोरियां व रेशिस होते है रेसीस वहाँ होते है जहाँ त्वचा  फोल्ड होती है जैसे वगल जांघ कमर पर भी हो जाती है.

more recommended stories