स्मार्ट सिटी की 11वीं बोर्ड बैठक में विभिन्न बिंदुओं पर गहन मंथन किया गया

agra smart city

आगरा स्मार्ट सिटी की 11वीं बोर्ड बैठक में विभिन्न बिंदुओं पर गहन मंथन किया गया। आगरा स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सभाकक्ष में सम्पन्न हुई बैठक में पिछली बोर्ड बैठक की कार्यवाही की पुष्टि, कम्पनी सेक्रेटरी की नियुक्ति, विभिन्न विभागों में कार्मिकों की नियुक्ति, मानव संसाधन समिति के अनुमोदन, मैसर्स सदाना एंड कम्पनी के सीए, इन्टर्नल आडिटर के अनुमोदन तथा बैलेंस शीट अनुमोदन पर विचार हुआ। आयुक्त एवं आगरा स्मार्ट सिटी लिमिटेड के अध्यक्ष अनिल कुमार ने सम्बन्धित अधिकारियों से कहा कि आगरा स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत कराये जा रहे कार्य निर्धारित मानक के अनुरूप गुणवत्ता पूर्ण ढंग से कराये जायें।

स्मार्ट सिटी के कार्यों की गुणवत्ता परखने के लिए मुख्य अभियन्ता लोक निर्माण विभाग, मुख्य अभियन्ता जल निगम और मुख्य अभियन्ता एडीए की एक तकनीकी कमेटी बनाने का निर्णय लिया गया। यह कमेटी विभिन्न कार्यों की गुणवत्ता से सम्बन्धित तकनीकी जांच सुनिश्चित करेगी। बोर्ड बैठक में प्रस्तुत किये जाने वाले एजेण्डों को समुचित ढंग से तैयार किए जाने एवं भविष्य में बोर्ड बैठक के एजेण्डों का बैठक से पूर्व उन्हें अवलोकित करा लिये जाने पर जोर दिया गया। कमिश्नर ने कहा कि आगरा स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत जो समितियां गठित की जानी हैं उसे ठीक प्रकार से तैयार कर आगामी बोर्ड बैठक में इसके लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाये। तय हुआ कि सीए, इन्टर्नल आडिटर के अनुमोदन सम्बन्धी प्रकरण में मानव संसाधन समिति के माध्यम से प्रस्ताव आयुक्त के समक्ष प्रस्तुत किया जाये और आगामी बोर्ड बैठक में इस सम्बन्ध में निर्णय लिया जाये। डीपीआर स्वीकृति के पश्चात कराये जा रहे कार्यों में अलग से अन्य कार्यों के लिए अनुमोदन का प्रस्ताव प्रस्तुत किये जाने पर सम्बन्धित की जिम्मेदारी तय की जाये कि उसके द्वारा कार्यों को पूर्व के डीपीआर में क्यों शामिल नहीं किया गया।

बैठक में आगरा स्मार्ट सिटी लिमिटेड के तहत विभिन्न स्मार्ट परियोजनाओं के लिए तैयार की गई डीपीआर के परीक्षण के लिए दयालबाग इंजीनियरिंग कॉलेज की नियुक्ति पर विचार किया गया। थर्ड पार्टी क्वालिटी इंश्योरेंस के लिए अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय द्वारा सैम्पलिंग के समय सम्बन्धित वरिष्ठ अधिकारी मौके पर उपस्थित रहने को कहा गया। यमुना नदी की ओर ड्रेन के विस्तार के लिए भूमि के अधिग्रहण के सम्बन्ध में भी निर्णय लिया गया। इसके लिए एडीए उपाध्यक्ष तथा नगर आयुक्त को तकनीकी टीम के साथ इसकी जांच कर लेने के निर्देश दिए गए। मास्टर सिस्टम इन्टीग्रेशन (एमएसआई प्रोजेक्ट) से सम्बन्धित कार्यों में तेजी लाने तथा इससे सम्बन्धित कार्यों की नगर आयुक्त व पुलिस अधीक्षक यातायात द्वारा नियमित समीक्षा की जाने पर चर्चा हुई। बैठक में आगरा स्मार्ट सिटी से सम्बन्धित एक डाक्यूमेंट्री फिल्म का भी प्रजेन्टेशन किया गया। साथ ही निर्णय लिया गया कि इस डाक्यूमेंट्री को आगरा के सिनेमाघारों में भी दिखाया जाए।

बैठक में जिलाधिकारी एनजी रवि कुमार, एडीए उपाध्यक्ष शुभ्रा सक्सेना ने विचार रखे। नगर आयुक्त अरूण प्रकाश, मुख्य अभियन्ता जल निगम आरके गर्ग, मुख्य अभियन्ता विद्युत एके चौधरी, मुख्य अभियन्ता एडीए अजय सिंह, अधिशासी अभियन्ता नगर निगम एके सिंह एवं पुलिस अधीक्षक यातायात प्रशान्त कुमार आदि मौजूद रहे।

more recommended stories