जिवोदॉन ने देश में शुरू किया अत्याधुनिक फ्लेवर निर्माण सुविधा

Group Pic. - Lamp Lighting (1)

मुंबई । भारत एक उभरता हुआ बाज़ार है एवं इसकी क्षमता किसी से छिपी नहीं है इस कारण विदेशी बड़ी कंपनिया भारत की ओर रुख कर रही है । इसी कड़ी में स्वाद और सुगंध की दुनिया में विश्व की अग्रणी कंपनियों में से एक जिवोदॉन ने भारत के पुणे शहर में एक नई फ्लेवर निर्माण सुविधा का आधिकारिक उद्घाटन किया। 60 मिलियन सीएचएफ के निवेश वाला यह प्लांट भारत में कंपनी का सबसे बड़ा निवेश है ।

 यह 40,000 वर्ग मीटर की सुविधा के माध्यम से जिवोदॉन खाद्य पेय और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्रों में ग्राहकों की बढ़ती मांग को पूरा करने में सक्षम होगी। नई सुविधा दमन में कंपनी के मौजूदा संयंत्र के पूरक के तौर पर काम करेगी और भारत, नेपाल और बांग्लादेश के बाजारों के लिए तरल यौगिकों, पाउडर सम्मिश्रण, इमल्शन, प्रोसेस फ्लेवर्स और स्प्रे ड्राइंग में कंपनी की क्षमताओं को और मजबूत करेगी। जिवोदॉन के नए सुविधा स्थल पर लगभग 200 लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है।

जिवोदॉन के चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर जिल्स एंड्रियर ने कहाः ‘‘जिवोदॉन की दीर्घकालिक विरासत, भारत के प्रति प्रतिबद्धता और एशिया-प्रशांत क्षेत्र के उच्च विकास बाजारों पर हमारे रणनीतिक केंद्र के नवीनतम उदाहरण के रूप में हम पुणे में इस विश्व स्तरीय फ्लेवर निर्माण सुविधा को खोलकर खुश हैं। अपनी नई निर्माण सुविधा की सहायता से अब जिवोदॉन अपने ग्राहकों के साथ और अधिक निकटता से सहयोग करने में सक्षम हो पाएगा, ताकि तेजी से बदलते भारतीय बाजार में शानदार और अलग किस्म के स्वाद के अनुभव प्रदान किए जा सकें।‘‘

नई सुविधा कंपनी की पहली जीरो लिक्विड डिस्चार्ज साइट है और इस तरह यह जिवोदॉन के पर्यावरण अनुरूप कार्यसूची में भी महत्वपूर्ण योगदान दे रही है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि सारे अपशिष्ट जल को शुद्ध किया जाता है और उपचार चक्र के अंत में पुनर्नवीनीकरण के साथ उसका इस्तेमाल किया जाता है। कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए पूरे साइट पर ऊर्जा कुशल एलईडी लाइटिंग तकनीक को भी फिट किया गया है और सौर पैनलों को शामिल करने के लिए योजनाएं बनाई जा रही हैं, जो जिवोदॉन के 100 प्रतिशत नवीकरणीय ऊर्जा लक्ष्य की ओर योगदान कर रही हैं। स्थानीय पर्यावरण के संरक्षण का समर्थन करने के लिए 1,100 से अधिक पेड़ लगाए गए हैं।

जिवोदॉन की एशिया-प्रशांत कमर्शियल हैड-फ्लेवर्स मोनिला कोठारी ने भारतीय बाजार के बढ़ते महत्व को रेखांकित करते हुए कहा, ‘‘पिछले कुछ वर्षों में, भारत में खाद्य और पेय उद्योग में अद्भुत वृद्धि हुई है और हमने इस बाजार में सतत विकास देखा है। इस तीव्र परिवर्तन को देखते हुए, हमें इन बाजारों की जरूरतों को पूरा करने के लिए तत्पर रहने की जरूरत है और भारत में इस नई विनिर्माण सुविधा को इसी लक्ष्य के तहत बनाया गया है।

more recommended stories